गाज व बैंडेज का टोटा, दावा बेहतर स्वास्थ्य सेवा का

केसएक-शहरकेमोहल्लाडीएमकालोनीनिवासीजितेंद्रकुमारनेबतायाकिरातमेंउनकेदोस्तकोबाइकसेचोटलगगईथी।पट्टीकरानेअस्पतालगएतोपहलेटिटनेसकाइंजेक्शननहींथा।बादमेंरुईवपट्टीभीहल्कीलगाईगई।इससेखूनऊपरतकदिखरहाथा।केसदो-मर्दननाकामोहल्लानिवासीमुमताजनेबतायाकिवहमरीजपेटदर्दहोनेपरअस्पताललेकरगयाथा।जहांपहलेएकइंजेक्शनलगानेपरउसेआरामनहींमिला।दोबाराकहनेपरबाहरसेइंजेक्शनलिखागया।खरीदकरइंजेक्शनलानेकेबादमरीजकोआराममिलाहै।जागरणसंवाददाता,बांदा:कोरोनासंक्रमणकेसमयसरकारीअस्पतालोंमेंबेहतरस्वास्थ्यव्यवस्थाउपलब्धकरानेकादावाहवाहवाईसाबितहोरहाहै।जिलाअस्पतालमेंइससमयजहांगाजवबैंडेजकास्टाककमहै।वहींमरहमकेसाथएंटीबायोटिकवदर्दकाइंजेक्शनभीनहींआरहाहै।चिकित्सकोंकोमिलताजुलतादूसराइंजेक्शनमजबूरीमेंमरीजकोलगानापड़ताहै।

जिलाअस्पतालवट्रामासेंटरकीइमरजेंसीमिलाकरवर्तमानमेंकरीब128बेडसंचालितहैं।इसमेंरोजानाकरीबसाढ़ेआठसौमरीजोंकीओपीडीचलरहीहै।करीब100से125मरीजइमरजेंसीमेंरोजानाआरहेहैं।इसमेंघायलोंकीसंख्याभीकरीब40प्रतिशतरहतीहै।लेकिनइससमयड्रेसिगरूममेंगाजवबैंडेजकेसाथबीटाडीनमरहमकाटोटारहताहै।मरहमकीजगहसिर्फलोशनसेकामचलताहै।इसीतरहघायलोंकेउपचारमेंगाजवबैंडेजकाइस्तेमालआवश्यकतासेकमकियाजारहाहै।कर्मचारियोंकेसामनेमजबूरीयहरहतीहैकिउन्हेंसप्ताहमेंदोबंडलगाजकेमिलतेहैं।जोचारदिनयामरीजज्यादाआनेसेतीनदिनमेंहीसमाप्तहोजातीहै।इसीतरहमहत्वपूर्णकोल्डडायरिया,सर्दीवबुखारखांसीमेंइस्तेमालहोनेवालाएंटीबायोटिकइंजेक्शनसफैराजोल,दर्दकाडायक्लोफिनिक,टिटनेसकाटीटी,पेटदर्दकाडाइसाकिलोमीनइंजेक्शनकास्टाकभीकमहै।इमरजेंसीमेंउपलब्धतानहोनेसेदर्दकाइंजेक्शनहरमरीजकोट्रामाडालहीलगानापड़ताहै।जबकिघायलोंवकुछमरीजोंकोडायक्लोफिनिकहीलगानाजरूरीहोताहै।अन्यइंजेक्शनोंकेनहोनेबदलेमेंइससेमिलतेजुलतेदूसरेलगानेपड़तेहैं।मरीजोंकोज्यादादवावइंजेक्शनोंकेबारेमेंकोईजानकारीनहींहोतीहै।इससेवहभीइसबारेमेंजल्दीकुछबोलनहींपातेहैं।

-अस्पतालोंमेंदवाओंकीकमीनहींहै।जोदवाएंघटतीहैंउनकाआर्डरपहलेसेकियाजाताहै।कईबारसप्लाईआनेमेंदेरहोजातीहै।वहजानकारीकरकेइसेसमयपरपूराकराएंगे।

डॉ.उदयभानसिंहसीएमएसजिलाअस्पताल

चिकित्सकबाजारसेमंगवातेहैंदवा

-जिलाअस्पतालमेंबाजारसेदवामंगवानेकाकुछचलनसाबनगयाहै।जोदवाएंअस्पतालमेंउपलब्धभीहोतीहैं।उन्हेंभीकुछचिकित्सककमीशनकेचक्करमेंबाहरकीदुकानसेमंगवातेहैं।तीमारदारकेइंजेक्शनलेकरआनेपरउनकाउपचारशुरूहोताहै।इसमेंऐसानहींहैकिअस्पतालप्रशासनकोइसकीजानकारीनहींहोतीहै।उनकेकहनेपरकुछदिनोंकेलिएयहप्रक्रियाकमहोजातीहै।इसकेबादफिरवहींढर्राशुरूहोजाताहै।