दूर-दूर तक फैल रही सुपौल के केले का स्वाद और खूशबू, विभाग उपलब्ध करा रहा टिश्यू कल्चर में तैयार जी-9 के पौधे

जागरणसंवाददाता,सुपौल:कभीअन्नउत्पादनतकसीमितरहनेवालेजिलेकेकिसानोंनेपारंपरिकखेतीसेऊपरउठकरव्यावसायिकखेतीकीओरकदमबढ़ायातोयहांकेकेलेकीसुगंधकानपुर,पश्चिमबंगालऔरनेपालतकपहुंचनेलगी।इसकीखेतीकारकबायहांकाफीतेजीसेबढ़ाहै।जिलेमेंकेलेकीखेतीलगभगदोसौहेक्टेयरमेंकीजातीहै।इसखेतीकोबढ़ावादेनेकेलिएउद्यानविभागनेभीकाफीपहलकीहै।केलेकीखेतीकीओरकिसानोंकेबढ़तेरुझानकोदेखतेहुएविभागनेटिश्यूकल्चरमेंतैयारजी-9केपौधेअनुदानितदरपरउपलब्धकरायाहै।किसानोंकाकहनाहैकियहांकेकेलेमेंलगभग20से25दर्जनवालेघौंदहोतेहैंजिसकीकीमतव्यापारीखेतपरआकरतीनसौसेलेकरचारसौतकदेदेतेहैं।

प्रतापगंजसेकेलाजाताहैबंगाल

प्रतापगंजप्रखंडक्षेत्रकीश्रीपुरपंचायतमेंप्रचुरमात्रामेंकेलाकीखेतीकीजातीहै।जहांसेबंगाल,काठमांडू,नेपालगंजआदिकेव्यापारीकेलाकीखरीदारीकरअपने-अपनेक्षेत्रलेकरजातेहैं।दूर-दराजकेव्यापारीकेलेकेबगानसेअच्छीक्वालिटीकेकेलेखरीदलेतेहैं।शेषबचेकेलेकोस्थानीयप्रतापगंज,सिमराही,भीमपुरआदिजगहोंकेव्यापारीआवश्यकतानुसारखरीदारीकरबाजारमेंबेचतेहैं।स्थानीयकिसानकेअनुसारबढिय़ाक्वालिटीकेकेलेकीकीमतउन्हेंदूरकेव्यापारीएकमुश्तदेदेतेहैं।

बलुआमेंहोतीहैअच्छीखेती

बलुआबाजारक्षेत्रमेंकेलेकीअच्छीखेतीहोतीहै।अधिकांशकिसानकेलेकीखेतीकरतेहैं।नेपालकासीमावर्तीक्षेत्रहोनेकेकारणनेपालकेव्यापारीयहांसेकेलाखरीदनेकेलिएआतेहैं।सीजनमेंस्थानीयक्षेत्रोंमेंकेलेकमकीमतपरउपलब्धहोजातेहैंपरंतुनेपालकेबाजारोंमेंअच्छीकीमतपरकेलेबिकजातेहैं।

सरायगढ़मेंसिमटतीजारहीखेती

सरायगढ़-भपटियाहीप्रखंडक्षेत्रमेंकेलेकीखेतीसिमटतीजारहीहै।कुछवर्षपूर्वक्षेत्रमेंकाफीसंख्यामेंलोगकेलेकीखेतीसेजुड़ेथे,लेकिनधीरे-धीरेकिसानोंइससेमुंहमोडऩाशुरूकरदिया।बैसागांवमें04से05एकड़खेतोंमेंकेलेकीखेतीहोरहीहै।किसानोंकाकहनाहैकिलागतकेअनुरूपमुनाफानहींहोरहाहै।किसानोंकाकहनाहैकिकेलेकीखेतीकेलिएउचितबाजारभीनहींहै।किसीखासअवसरपरहीकेलेकीबिक्रीहोतीहै।