दशकों से दशरथ की भूमिका निभाते चले आ रहे हैं रुकनुद्दीन

सुलतानपुर:कादीपुरतहसीलसेछहकिमीउत्तरदोस्तपुरमार्गपरस्थितमुस्तफाबादसरैयाबाजारमेंरामलीलामंचनकीशुरुआत1962मेंहुई,जोअनवरतस्थानीयउत्साहीलोगोंकेसहयोगसेचलरहीहै।नवमीसेसातदिनोंतकचलनेवालीरामलीलामेंरामजन्म,रामविवाहतथारामवनगमनकेबादरावणवधकामंचनहोचुकाहै।शेषरामलीलामंचन24अक्टूबरतकचलेगाजिसकोदेखनेआसपासगांवोंकेअतिरिक्तदूरदराजसे¨हदू-मुस्लिमआतेहैं।इसमेंसभीधर्मोंकेलोगबढ़-चढ़करहिस्सालेतेहैं,जोक्षेत्रकेलिएएकमिसालहै।सचिनअग्रहरिवविनोदअग्रहरिजहांरामवरावणकारोलअदाकरतेहैंतोवहींरुकनुद्दीनमहाराजादशरथकाकिरदारनिभातेहैं।कार्यक्रममेंजहांडॉ.राजनारायणपांडेय,डॉ.गिरिजाशंकर¨सह,कांशीराम,रामकरनअग्रहरि,बुधिरामशर्मा,यशकुमारअग्रहरिसंजय,राहुलवमहेशतथामोहनलालअग्रहरि,सालिकरामअग्रहरि,विजयअग्रहरिआदिकासहयोगरहताहै।वहींडॉ.मुस्लिमइसमेंबढ़चढ़करहिस्सालेतेहैं।-रामलीलाआयोजनसेसंस्कारकेसाथसाथक्षेत्रमेंअमनचैनकासंदेशमिलताहै,जिसकीदूर-दूरतकप्रशंसाहोतीहै।विभिन्नकिरदारअपनेहीबीचकेहोतेहैं,जोउत्साहपूर्वकभागलेतेहैं।

-कालीप्रसादअग्रहरि,अध्यक्ष-रावणकाकिरदारनिभानाबहुतकठिनहै,परइसेहमशौकसेनिभातेहैं।रावणकीबुराइयोंकोनदेखकरउसकेअच्छाइयोंपरभीनजरडालें।रावणविद्वानथेलेकिनधर्मविरोधीकार्योंकेचलतेउसकावधहुआ।

-विनोदअग्रहरि,रावणकेकिरदार-कईवर्षोंसेबाजारकीरामलीलामेंदशरथकारोलअदाकरताआयाहूं।इससेहमेंबहुतहीसुकूनमिलताहै।क्षेत्रवासियोंकोमंचनदेखनेवकिरदारोंकेआदर्शोंपरचलनेकीसलाहभीदेताहूं।

-रुकनुद्दीन,महाराजादशरथकेकिरदार