दो फिट की कच्ची पगडंडी से निकलने को मजबूर ग्रामीण

संवादसहयोगी,कायमगंज:कईवर्षसेदोफिटकीकच्चीपगडंडीसेनिकलनेकोमजबूरहैंगांवनगलागोदामकेग्रामीण।कईप्रधान,कईजिलापंचायत,विधायकोंकाकार्यकालबीतजानेकेबादभीइसगलीकीओरकिसीकाध्याननहींगया।इसपगडंडीसेमिलाहुआगहरातालाबहै,जोकभीभीहादसेकासबबबनसकताहै।

विकासखंडशमसाबादकेनर्सरीकारोबारवालेगांवनगलागोदामकीएकगलीकईवर्षसेनिर्माणकीराहदेखरहीहै।जिसकीचौड़ाईकहींकहींपरदोतीनफिटहीरहगईहै।इसपगडंडीजैसीगलीकेएककिनारेपरगहरातालाबवदूसरेकिनारेपरखेत।इसकेबीचमेंहाईटेंशनलाइनकाबिजलीखंभालगाहुआहै।इसगलीमेंलगभग15घरबनेहैं।बरसातकेदिनोंमेंइससेनिकलनामुश्किलहोजाताहै।बिजलीकेखंभामेंकरंटभीआजाताहै।जिससेकईबारमवेशी,बच्चेवग्रामीणबचचुकेहैं।कीचड़होजानेसेइसीसेगुजरकरबच्चेस्कूलजातेहैं,जिससेपैरफिसलनेसेतालाबमेंगिरनेकाखतराबनारहताहै,जबकिगांवकीअन्यगलीचौड़ीहोनेकेसाथउसपरसीमेंटवखड़ंजाहै।गांवकेप्रधानरघुवीरमेंबतायाकिवहअभीजल्दीहीप्रधानबनेहैं।उन्हेंइसकीपूरीजानकारीनहींकिइसकानिर्माणक्योंनहींहोसका।इसबारेमेंशीघ्रहीजानकारीकरकामकरायाजाएगा।

ग्रामीणोंकीपरेशानी

वहअबतकपांचचुनावमेंवोटडालचुकेहैं।पहलेचुनावसेअबतकयहगलीदो-तीनफिटकीरही।कईप्रधान,पंचायत,विधायक,सांसदबने।चुनावकेसमयतोगलीबनवानेकाआश्वासनमिला,लेकिनबनीआजतकनहीं।नर्सरीकाकामहोनेसेइसपगडंडीसेपौधभीलेकरजातेहैं।कोईवाहननआपानेसेबहुतदिक्कतहोतीहै।

बरसातकेदिनोंमेंवगलीसेलगेहुएखेतमेंपानीभरनेसेगलीमेंकीचड़होजाताहै।बच्चेफिसलजातेहैं,जिससेउनकेगहरेतालाबमेंगिरनेकाडरबनारहताहै।बिजलीकाखंभालगाहोनेसेकरंटआजाताहै।कईबारमवेशीवबच्चेबचचुकेहैं।वोटकेसमयतोसभीकहजातेहैंकिगलीचौड़ीवपक्कीकरादेंगे।बादमेंकोईध्याननहींदेता।