Dhanbad Lockdown Positive: नौकरशाह से साहित्यकार बने श्रीराम दुबे ने चार उपन्यास व एक महाकाव्य की कर दी रचना

जागरणसंवाददाता,धनबाद:कोरोनाकालमेंजहांलोगघरोंमेंदुबकेअपनीजानकीखैरमांगरहेथेकुछरचनाधर्मियोंनेइससमयकासदुपयोगभीरचनाधर्मनिभानेमेंकिया।नौकरशाहसेसाहित्यकारबनेश्रीरामदुबेभीऐसेहीविरलेव्यक्तित्वमेंहैं।दुबेनेकोरोनाकीपहलीसेदूसरीलहरकेबीचपांचपुस्तकोंकालेखनकार्यपूराकियाहै।इनमेंचारउपन्यासहैंतोएकमहाकाव्य।

उन्होंनेबतायाकिलाकडाउनकेकईपहलूहैं।अर्थव्यवस्थावअन्यमुद्दोंपरयहभलेहानिकारकहोलेकिनइसनेलोगोंकोभागदौड़भरीजिंदगीसेकुछपलकाविश्रामतोजरूरदियाहै।अपनेविगतकोयादकरआगतकेविषयमेंचिंतनकरनेकासमयदियाहै।अपनेकार्योंकीसमीक्षाकरनेकासमयदियाहै।नवरचनाओंकेलिएकोलाहलसेदूरएकांतवासकासमयभीदियाहै।इसीकालाभउठातेहुएउन्होंनेकोरोनाकीचिंताछोड़कलमपकड़ाऔरसाहित्यरचनामेंलीनहोगए।

कोरोनाकालकीरचनाएं

महुआबाग:दुबेनेजिनउपन्यासोंकीरचनाकीहैउनमेंएकमहुआबागप्रकृतिवपर्यावरणपरआधारितहै।इसमेंवनोंकीकटाईहोनेसेआदिवासियोंकासमाजार्थिकजीवनकिसतरहप्रभावितहोरहाहैऔरउनमेंकलहबढ़रहाहैइसकावर्णनहै।

जंगलसबजानताहै:यहनक्सलीआंदोलनपरआधारितहै।इसकानायकमंगलबेसरावउसकीप्रेमिकासोबरनहैं।दोनोंहीनक्सलीहैं।मंगलबेसरारायफलकेसाथबांसुरीभीरखताहै।उपन्यासकेअंतमेंजबदोनोंमुठभेड़मेंमारेजातेहैंतबजंगलस्वयंएकपात्रकेरूपमेंसामनेआताऔरबताताहैकियहरायफलऔरबांसुरीदोनोंउसीकीउपजसेबनेहैं।चुननामनुष्यकोहैकिवहकिसेचुनताहै।

भज्जो:यहएकमार्मिकप्रेमकथापरआधारितहै।इसमेंभज्जोतनसेनहींमनसेप्रेमकरनेवालीमहिलाहै।उसकेमनोभावोंकोउकेरागयाहै।इनकाप्रकाशनपंचकुलाकाआधारप्रकाशनकररहाहै।सभीपुस्तकेंअगलेसप्ताहतकप्रकाशितहोजाएंगी।

नाचनी:वीरभूम,मानभूमवसिंहभूमइलाकोंकेराजावसामंतोंकेबीचनाचनीरखनेकीप्रथाथी।नाचनेवालीमहिलाओंकोइसइलाकेमेंनाचनीसेहीसंबोधितकियाजाताहै।इसउपन्यासकेजरिएउन्होंनेराजतंत्रकेसमयसेचलीआरहीप्रथाकीकुरीतियोंऔरनाचनीपरिवारोंकीमौजूदास्थितिसेअवगतकरायाहै।

परशुराम:भगवानपरशुरामपरश्यामनारायणपांडेयभीमहाकाव्यलिखचुकेहैंजोकाफीचर्चितरहाहै।अबश्रीरामदुबेनेभीउनपरमहाकाव्यकीरचनाकीहै।जल्दहीवेइसकालोकार्पणभीकरेंगे।