देश में चिक‍ित्‍सा का हाल: देश में 854 लोगों पर सिर्फ एक डाक्टर, 559 लोगों पर मात्र एक नर्स, एलोपैथिक डाक्टरों की संख्‍या 12.68 लाख

नईदिल्ली,एजेंसी।केंद्रसरकारनेलोकसभामेंबुधवारकोबतायाकिदेशमें854लोगोंपरएकएलोपैथिकडाक्टरऔर559लोगोंपरएकनर्सउपलब्धहै।यहआंकड़ापंजीकृतएलोपैथिकडाक्टरोंकी80प्रतिशतउपलब्धतापंजीकृतनर्सोकी70प्रतिशतउपलब्धतामानकरनिकालागयाहै।

संसदकेनिचलेसदनमेंएकलिखितजवाबमेंस्वास्थ्यराज्यमंत्रीभारतीप्रवीणपवारनेकहाकिराज्यचिकित्सापरिषदों(एसएमसी)औरराष्ट्रीयचिकित्साआयोग(एनएमसी)मेंपंजीकृत12.68लाखएलोपैथिकऔर5.65लाखआयुर्वेदिकचिकित्सकहैं।स्वास्थ्यराज्यमंत्रीनेकहाकिअबतककीउपलब्धसूचनाओंकेमुताबिकदेशमेंपंजीकृतनर्सिगकर्मचारियोंकीसंख्याकुल32.63लाखहै,जिसमें22.72लाखपंजीकृतनर्सऔर9.91लाखपंजीकृतनर्सएसोसिएट्सशामिलहैं।उन्होंनेकहाकिडाक्टरों,नर्सोऔरपैरामेडिक्सकीसंख्याबढ़ानेकेलिएसरकारनेकईकदमउठाएहैं।

इनमेंजिनजिलोंमेंमेडिकलकालेजनहींहैं,वहांकेंद्रीयवित्तपोषणयोजनाकेतहतजिलाअस्पतालोंकोमेडिकलकालेजकेरूपमेंअपग्रेडकियाजानाशामिलहै।इसकेतहततीनचरणोंमें157अस्पतालोंकोमंजूरीदीगईहैऔरइसकेलिएधनभीजारीकिएगएहैं।इनमेंसे47मेडिकलकालेजसंचालितहोगएहैं।इसकेअलावामौजूदाकेंद्रयाराज्यसरकारकेमेडिकलकालेजोंमेंभीएमबीबीएसऔरपोस्ट-ग्रेजुएटकीसीटेंबढ़ाईजारहीहैं।देशमें558मेडिकलकालेजस्वास्थ्यराज्यमंत्रीनेकहाकिएनएमसीद्वारादीगईसूचनाकेमुताबिकदेशमेंकुल558मेडिकलकालेजमेंऔरइनमेंएमबीबीएसकी83,275औरएमडी,एमएस,डीएम,एमसीएचकेलिएपीजीऔरडिप्लोमाके42,720सीटेंहैं।

कोरोनापीडि़तोंकोमुआवजाकामामलाविचाराधीनपवारनेबतायाकिकोरोनामहामारीसेपीडि़तोंकोमुआवजादेनेकेलिएदिशानिर्देशतयकरनेकेसुप्रीमकोर्टकेनिर्देशोंपरसंबंधितहितधारकोंकीरायलीजारहीहै।उन्होंनेकहाकिविश्वस्वास्थ्यसंगठन(डब्ल्यूएचओ)द्वाराइसेमहामारीघोषितकरनाऔरदेशमेंइसकेप्रसारकोदेखतेहुएसरकारनेकोरोनामहामारीकोअधिसूचितआपदामेंशामिलकियाहै।इसकेमुताबिकहीविभिन्नकंटेनमेंटउपायोंकेलिएराज्यआपदामोचनकोष(एसडीआरएफ)केतहतमददमुहैयाकराईजारहीहै।

कोरोनासे4,18,987मौतेंहुईंस्वास्थ्यराज्यमंत्रीनेबतायाकिदेशभरमेंपिछलेसालजनवरीसेलेकरइससाल22जुलाईतककोरोनावायरससेसंक्रमणकेचलतेकुल4,18,987लोगोंकीमौतहुईहै।दूसरीलहरमेंआक्सीजनकीमांग9,000टनतकपहुंचीभारतीप्रवीणपवारनेसदनकोबतायाकिकोरोनामहामारीकीदूसरीलहरकेदौरानएकदिनमेंआक्सीजनकीमांग9,000टनतकपहुंचगईथी।जबकि,महामारीकीपहलीलहरमेंएकदिनमेंसबसेअधिक3,095टनआक्सीजनकीमांगपहुंचीथी।उन्होंनेबतायाकिपिछलेसालअगस्तमेंप्रतिदिन5,700टनआक्सीजनकाउत्पादनहोरहाथा,जो13कोबढ़कर9,690टनप्रतिदिनहोगयाथा।28मईकोकेंद्रसरकारनेराज्योंको10,250टनआक्सीजनआवंटितकिएथे।