डंप बिगाड़ रहे शहर की आबोहवा, खत्म करना मुश्किल हुआ, भविष्य में भी बना रहेगा मुद्दा

जागरणसंवाददाता,जालंधर:पिछले10सालसेनगरनिगम,विधायकोंऔरपार्षदोंकेलिएपरेशानीकासबबबनरहेकूड़ेकेडंपभविष्यमेंभीमुद्दाबनेरहेंगे।वेस्टमैनेजमेंटकोलेकरचलरहीयोजनाओंकेसिरेनाचढ़नेसेकूड़ेकेडंपखत्मनहींहोपारहेहैं।शहरकीसभीप्रमुखसड़कोंपरबड़े-बड़ेकूड़ेकेडंपहैं।इनसेनासिर्फशहरकीसूरतबिगड़रहीहैबल्कियहप्रदूषणकाभीबड़ाकारणबनेहुएहैंऔरबीमारियांफैलारहेहैं।नगरनिगमनेकईडंपबंदकरकेकागजोंमेंडंपोंकीगिनतीतोकमकरलीहैलेकिनअसलमेंकूड़ाअबशहरमेंछोटे-छोटेडंपोंकेबजायकुछबड़े-बड़ेडंपोंपरफेंकाजाताहै।कूड़ेकेडंपोंसेजनताकीपरेशानीकाअंदाजाइसीबातसेलगायाजासकताहैकिजालंधरछावनीविधानसभाहलकासेशिरोमणिअकालीदलकेउम्मीदवारजगबीरबराड़नेशहरीक्षेत्रमेंइसेमुख्यमुद्दाबनायाहैऔरअपनेघोषणापत्रमेंभीशामिलकियाहै।माडलटाउनश्मशानघाटकेबाहरलगनेवालेडंपकोलेकरकईसालोंसेराजनीतिजारीहैलेकिनबार-बारदावोंकेबावजूदभीडंपकोयहांसेशिफ्टनहींकियाजासकाहै।इसेलेकरजिलाकांग्रेसकेमौजूदाप्रधानएवंपार्षदबलराजठाकुरकेनेतृत्वमेंबड़ाधरनाभीलगाथा।इसकेबावजूदडंपवहींकावहींहै।इससेतयहैकिआनेवालेसमयमेंभीकूड़ेकेडंपमुद्दाबनेरहेंगे।जहांलगेडंपबनेसिरदर्दी

शहरकेप्रमुखइलाकोंकेडंपोंमेंप्लाजाचौक,प्रतापबाग,नकोदररोडपरस्कूलकेबाहर,फुटबालचौक,मच्छीमार्केटकेडंपसिरदर्दीहैं।जालंधरकेंद्रीयविधानसभाहलकाकीलाइफलाइनमानीजातीलाडोवालीरोडपरकूड़ेकाअवैधडंपबनाहै।इसेकईबारखत्मकरनेकीकोशिशकीगईहैलेकिनइसेखत्मनहींकियाजासका।करीबतीनमहीनेतकयहांपरकंटीलीतारलगाकरलोगोंकोकूड़ाफेंकनेसेरोकागयालेकिनअबइसेहटादियागयाहैऔरसड़कपरहीकूड़ेकेढेरलगेहैं।नगरनिगमकेप्रोजेक्टफेलहोनेसेस्वच्छतासर्वेमेंभीनिगमकीरैंकिंगगिरीहै।

बाहरीइलाकोंमेंभीबनेछोटे-छोटेडंप

वहींबाहरीइलाकोंमेंभीकईजगहछोटे-छोटेडंपबनगएहैं।इन्हेंनगरनिगमकीमान्यतानहींहैलेकिनलोगयहांपररोजानाकूड़ाफेंकतेहैं।जिससेकईइलाकोंमेंयहअबपक्केडंपकारूपलेगएहैं।सूर्याएनक्लेवरोडपरतोहालातऐसेहैंकिपूरीसड़कहीकूड़ेसेबंदहोगईहै।चौगिट्टंीफ्लाईओवरकेपासभीबिनामंजूरीकूड़ेकाडंपबनाहुआहैऔरयहांपरबड़ीगिनतीमेंपशुघूमतेहैं।इनपशुओंकेकारणकईबारदुर्घटनाएंभीहुईहैं।काजीमंडी,बस्तीदानिश्मांडामेंशिवाजीनगर,दोमोरियापुल,रामामंडीपुलमात्रउदाहरणहैं।शहरकीसभीबाहरीआबादियोंमेंकूड़ेकेडंपबनगएहैं।डोरटूडोरकलेक्शनकेलिएनगरनिगमकेपासनहींहैइंफ्रास्ट्रक्चर

स्वच्छभारतमिशनकेतहतघर-घरसेकूड़ाउठानेकीप्रक्रियाहरशहरमेंहोनीजरूरीहैलेकिनजालंधरमेंकईसालोंकेप्रयासकेबादभीइसपरकामनहींहोपायाहै।कोरोनामहामारीआनेसेपहलेइसपरकाफीकामहुआथालेकिनमहामारीफैलनेकेबादपूरासिस्टमहीचौपटहोगया।नगरनिगमकोघर-घरसेकूड़ाउठानेकेलिएडस्टबिनवालेकरीब800रिक्शाकीजरूरतहैलेकिननगरनिगमयहरिक्शाउपलब्धनहींकरवापारहाहै।करीब30हीऐसेरिक्शामौजूदहैं।नगरनिगमने100ई-रिक्शाखरीदनेकाटेंडरलगायाहैऔरवर्कआर्डरजारीकरदियाहैलेकिनइसेआनेमेंअभीछहमहीनेऔरलगेंगे।यहआनेकेबावजूदभीकाममेंसुधारनाममात्रहीहोपाएगाक्योंकिजरूरतकेमुकाबलेयहकाफीकमहैं।