डीआरडीओ द्वारा बनने वाले कोविड अस्पताल के लिए साउथ बाईपास पर प्रशासन ने देखी जगह

जागरणसंवाददाता,हिसार:हरियाणामेंलगातारकोविडकेसबढ़रहेहैं।इसकाअंदाजाइसीबातसेलगायाजासकताकिबीतेआठदिनोंमें50फीसदकेसबढ़गएहैं।इसकोदेखतेहुएरक्षाअनुसंधानएवंविकाससंगठन(डीआरडीओ)को500बेडकाकोविडअस्पतालबनानेकीजिम्मेदारीदीगईहै।इसकोलेकरजिलास्तरपरप्रशासननेकवायदशुरूकरदीहै।उपायुक्तनेइसअस्पतालकोस्थापितकरानेकेलिएसाउथबाईपासपरजगहभीदेखीहै।संभवत:ऐसेस्थानपरयहबनायाजाएगा,जहांआनेजानेकीअच्छीसुविधाहोऔरबिनाकिसीअवरोधकेलोगोंकोशिफ्टकियाजासके।हालांकिअभीयहप्रारंभिकदौरमेंहैंमगरइसकेलिएकाफीतेजीसेकामहोरहाहै।

संसाधनजुटानेकेलिएहोरहीबैठकें

इसअस्पतालमेंक्या-क्यासुविधाएंहोंगी,कैसेकामकियाजाएगा,स्टॉफकहांसेआएगाजैसीतैयारियांप्रशासननेशुरूकरदीहैं।यहांऑक्सीजनजैसीसुविधाएंमुहैयाकराईजासकें,इसकेलिएभीकवायदतेजहोगईहै।मौजूदासमयमें17मीट्रिकटनऑक्सीजनकीखपतहोरहीहै,जबकिइतनीहीऑक्सीजनसप्लायरोंसेअस्पतालोंकोमिलरहीहै।ऑक्सीजनकेएक-एकसिलेंडरकाहिसाबकिताबतकरखाजारहाहै।

लुवासकीबर्डफ्लूकीलैबमेंहीहोगीकोरोनाटेस्टिंग

जिलेमेंकोविडसैंपलिगतथाटेस्टिंगकोलेकरसंसाधनोंमेंलगातारविस्तारकियाजारहाहै।इसकेलिएलालालाजपतरायपशुचिकित्साएवंपशुविज्ञानविश्वविद्यालयमेंइसलैबकोस्थापितकरनेकेलिएजगहमांगीगईथी।जिसकोलेकरलुवासमेंहालहीमेंस्थापितहुईबर्डफ्लूकीलैबकोहीकोविडकेलिएप्रयोगकियाजाएगा।यहांमौजूदासमयमेंएकआरटीपीसीआरमशीनहैमगरजल्दहीएकअन्यमशीनमिलसकतीहै।वहींप्रशासनकीतरफसेहीयहांटेस्टिंगकेकार्यकोकरनेकेलिएस्टॉफभीमुहैयाकरायाजाएगा।मौजूदासमयमेंदोलैबकोरोनाटेस्टकेलिएहिसारमेंसंचालितहैं।अबयहतीसरीलैबहोगी।यहांएकमशीनपरएकबारमें90सैंपलजांचेजासकेंगेवहींदिनमेंकईबारसैंपलजांचसकेंगे।

कांट्रेक्टट्रेसिंगकेलिएस्टाफदिया

उपायुक्तडा.प्रियंकासोनीनेबतायाकिलैबकोलेकरसभीतैयारियांपूर्णकरलीगईहै।मुख्यालयसेअनुमतिकेबादयहांजल्दहीटेस्टिंगकाकार्यआरंभकरदियाजाएगा।स्वास्थ्यविभागकोकोविडसैंपलिगबढ़ानेकोलेकर15मिनीबसेंवअन्यवाहनउपलब्धकरवाएंगएहै।इसीप्रकारसेसंक्रमितोंकेसंपर्कमेंआएलोगोंकीपहचानकेलिए100कीसंख्यामेंस्टाफउपलब्धकरवायागयाहै।

डीआरडीएकेअस्पतालकेलिएसाउथबाईपासपरजगहदेखीहै।मगरअभीऔरभीस्थानोंपरहमनिरीक्षणकररहेहैं।जोभीसबसेअच्छीजगहहोगीउसीकाचयनहोगा।

-डा.प्रियंकासोनी,उपायुक्त