डेरा बाबा राजपुरी में 15 से भव्‍य मेले की शुरुआत, दूसरे राज्‍यों से आते हैं श्रद्धालु

कैथल,जागरणसंवाददाता।कैथलकेगांवबाबालदानास्थितडेराबाबाराजपुरीपरतीनदिवसीयमेलाशुक्रवारसेशुरूहोरहाहै।दहशरेकेदिनरातकोहीश्रद्धालुमेलेमेंपहुंचनाशुरूहोजातेहैं।हरवर्षदशहरा,एकादशीऔरद्वादशीपरमेलालगताहै।बाबाकीधूनीपरप्रसादऔरध्वजाचढ़ाईजातीहै।दोदिनोंतकप्रदेशभरसेलोगपूजाकरनेकेलिएजातेहैंऔरतीसरेदिनगांवकीमहिलाएंपूजाकरतीहैं।विशालमेलेमेंबच्चेऔरमहिलाएंजमकरखरीदारीकरतेहैं।मंदिरकोसजायाजारहाहै।यहांआनेवालेलोगोंकेलिएप्रसादतैयारकियाजाताहै।तीनदिनोंतकभंडारालगायाजाताहै।बतादेंकिबाबाराजपुरीपशुधनमेंलाभकेलिएप्रसिद्धहै।इनतीनदिनोंमेेंहजारोंक्विंटलदूधयहांचढ़ायाजाताहै।इसदूधसेलोगोंकेलिएप्रसादबनादियाजाताहै।रोडवेजऔरपुलिसविभागकीतरफसेपुख्ताप्रबंधकिएजातेहैं।सुरक्षाकोलेकरभारीपुलिसबलतैनातरहताहै।

550वर्षपुरानाहैबाबाराजपुरीडेरेकाइतिहास

डेरेकेमहंतदूजपुरीमहाराजनेबतायाकिडेरेकाइतिहासकरीब550सालपुरानाहै।मान्यताहैकि550सालपहलेगांवमेंएकबच्चेकाजन्महुआथा,जोशैशवकालसेहीमहानयोगीकीतरहथे।बादमेंवेबाबाराजपुरीकेनामसेप्रसिद्धहुए।यहडेरास्वामीविवेकानंदकेगुरुरामकृष्णपरमहंसऔरउनकेगुरुमहंततोतापुरीमहाराजकीतपोस्थलीरहाहै।यहांमहंततोतापुरीकीसमाधिहै।महंतनेबतायाकिमाताहिंगलाजअष्टमीकीरातकोडेरेमेंबनेमंदिरमेंआतीहैंऔरवर्षोंपुरानेजालकेपेड़परधागाबांधकरजातीहैं।दशहराकेदिनजालकेपेड़परबाबाराजपुरीऔरमाताहिंगलाजकीपूजाकरध्वजाचढ़ाईजातीहै।बाबाराजपुरीकेदेशभरमेंकरीब365मठहैं।

जरूरतकेहिसाबसेचलेंगीरोडवेजबसें

बाबालदानामेलेकोलेकररोडवेजविभागकीतरफसेबसेंचलाईजातीहैं।येबसेंमेलेकेतीनदिनोंतकचलतीहैं।इसबारभीजरूरतकेहिसाबसेबसोंकासंचालनकियाजाएगा।बसस्टैंडसेज्यादाबसेंमेलेकेलिएजाएंगी।इससेपहलेचंदानागेटसेज्यादाबसेंजातीथी।पहलेचंदानागेटपररावणदहनकियाजाताथाऔरवहांआस-पासकेगांवसेलोगआतेथे।रावणदहनकेबादलोगरातकोहीबाबालदानापहुंचनाशुरूहोजातेथे।अबवहांरावणदहननहींकियाजाताहै।