Danish Siddiqui: 'हमारी आंखें चली गईं', फिर भी तालिबान की मजम्मत से परहेज क्यों?

नईदिल्लीतस्वीरेंसचबोलतीहैं,तस्वीरेंखुदमेंएकअफसानाहै,तस्वीरेंयादगारहोतीहैं,तस्वीरेंबातेंकरतीहैंआपकोहमकोरूलातीहैंऔरहंसातीहैं....औरकितनाकहूंइनतस्वीरोंपरबसयेलिखतेवक्तभीएकतस्वीरआंखोंकेप्रतिबिम्बकाअर्थकेसामनेआरहीहै।पिछलेदिनोंहमनेतस्वीरोंकेजादूगरफोटोजर्नलिस्टदानिशसिद्दीकीकोखोदिया।दानिशअबहमारेबीचनहींहैंमगरउनकेकैमरेमेंकैदतस्वीरेंहमारेआपकोदिलोंमेंमोहब्बतकीजंजीरोंसेजकड़ीहुईहैं।दानिशसिद्दकीकीमौतपरभीमजहबीजहरघोलनेवालेलोगोंनेवहीकामकिया।इसकेअलावालोगोंनेगोलियोंकोलानतेंभेजीमगरतालिबानकेनामपरउनकेमुंहसेकुछनहींनिकला।येकौनलोगहैंकहांसेआतेहैंऔरइनकीमानसिकताक्याहै।नमकरतींतस्वीरें...सोशलमीडियामेंभारतीयकार्टूनिस्टसतीशआचार्यनेतस्वीरखींची।अक्सरहमनेदेखाहैकिजबआपकिसीदर्दकोकिसीबातकोकरीबसेमहसूसकरतेहैंउसकेमर्मकोसमझतेहैंतोआपकेजज्बातयातोलफ्जोंमेंदिखतेहैंयाफिरवोतस्वीरोंमेंउकेरेजातेहैं।ऐसाहीएककार्टूनहै।जिसनेनजानेकितनीआंखोंकोनमकरदिया।इसतस्वीरमेंदानिशसिद्दकीअपनेकैमरेकेसाथआसमानकीतरफजारहेहैंऔरपीछेसेउनकाहाथथामेंभारतमाताकहरहींहैंकिआजमैनेअपनीआंखेंखोदींजोसचदिखातींथीं।खोदियाहमनेदानिशको...एकतरफतोहमनेएकहोनहारशख्सियतकोखोलिया।दूसरीओरहमारेमुल्कमेंकुछऐसेलोगहैंजिन्होंनेइसदर्दनाकपलमेंभीमजहबकारंगघोलदिया।दानिशसिद्दकीद्वाराकैदकीगईतस्वीरोंकोदिखाकरउनकोहिंदूविरोधीबोलदिया।सोशलमीडियामेंबैठेठलुआलोगोंनेवरिष्ठपत्रकाररोहितसरदानाकानामट्रेंडमेंलादिया।मतलबयेहैकिदोनोंहोनहारशख्सियतजोकिहमारेबीचमेंनहींहैं।रोहितसरदानाकीकोरोनासेमौतहोगईथी।उसकेबादइसदिवंगतआत्माकोभीइसलड़ाईमेंझोंकदिया।गोलियोंकोलानतऔरतालिबानकोकुछनहींदानिशसिद्दकीकोखोनेकाकष्टसभीकोहै।हरशख्सउनकीमौतपरदुखीहै।लेकिनकुछऐसेभीलोगहैंजोकिउनकीमौतकाकसूरवारउनगोलियोंकोबतारहेहैंजिन्होंनेदानिशकेजिस्मकोछलनीकरदिया।सोशलमीडियामेंऐसीबड़ीतादादहैजोतालिबानकानामलेनेसेबचरहेहैंऔरदानिशकोसलामकररहेहैं।येवहीलोगहैंजिन्होंनेपिछलेदिनोंएकपत्रकारकीमौतपरजश्नमनारहेथे।समझनहींआताकिआखिरकारयेअपनेदिमागमेंक्यालेकरपैदाहुएहैं।किसीकीमौतपरभीइनलोगोंकोशांतिनहींहै।क्योंहमतालिबानकानामलेनेसेकतरारहेहैं।क्याइससेभारतकेरिश्तेसुगमहोजाएंगे।क्याभारतऔरतालिबानमेंगहरीदोस्तीहै।कौनसीऐसीवोवजहहोसकतीहैजोतालिबानकानामलेनेसेरोकरहीहै।किसबातकासंकोच...येबातसचहैकिआखिरकारजिसआतंकीदेशकेआतंकियोंनेहमारेदानिशकीजानलेलीआपउसकानामभीनहींलेसकतेहैं।आखिरकारक्यों?किसबातकासंकोचथा।किसबातकाडरथा।दानिशतोनिडरथाजोमोर्चेपररहकरआतंकियोंकीकरतूतोंकोअपनेकैमरेमेंकैदकरदुनियाकेसामनेलानाचाहतेथेमगरउनकोसलामकरनेवालोंपरइतनीभीहिम्मतनहींहुईकिउसमुल्ककानामलेलेतेजिसनेदानिशकीजानली।फिरभीतालिबानकीमजम्मतसेपरहेजकियाजारहाहै।कौनहैंयेलोगजोएकदर्दनाकहादसेपरभीमजहबखोजनिकालतेहैं।अलविदादानिश....दानिशसिद्दकीकीमौतपरहंसनेवालेलोगयेकिसीभीमजहबकेहिमायतीनहींहोसकते।वोलोगजोतालिबानकानामनहींलेपारहेहैंवोकभीकिसीदानिशकोइंसाफनहींदिलासकते।हांयेबातबिल्कुलसचहैकिआजहमनेअपनीआंखोंकोखोदिया...वोआंखेंजोसिर्फसचदिखातीथीं....अलविदादानिशसिद्दकी...तुम्हारीकैदतस्वीरोंमेंतुम्हाराअक्सनजरआताहै....तुमजहांपरभीहोगेखुदएकरोशनीकीतरहजगमगारहेहोगे....