दैनिक जागरण के फोरम पर बाेले शिक्षाविद, सपने पूरे करने है ताे शार्टकट का रास्ता छोड़ सही रास्ता अपनाएं छात्र

बरेली,जेएनएन।DainikJagranForum:दैनिकजागरणके33वेंस्थापनादिवसपरआयोजितफोरममेंशुक्रवारकोशिक्षाविदशामिलहुए।उन्होंनेस्मार्टहोतेबरेलीकीशिक्षाव्यवस्थाकैसीहोविषयपरचर्चाकी।बनाएंसपनोंकीबरेली,विषयपरसभीनेअपनेसुझावदिए।बतायाकिकिसतरहतरक्कीकेसपनेकोपूराकियाजासकताहै।छात्रोंकोशार्टकटकारास्ताछोड़करसहीरास्ताअपनानाचाहिए।दिशाहीनछात्रअपनारास्ताबदलसहीरास्तेमेंवापसलौटेऔरमेहनतकरें।सत्यानडेलाहोयासिलिकानवैलीके30प्रतिशतभारतीयहै।अमेरिकामें50प्रतिशतडाक्टरभारतीयहै।विदेशोंकी70प्रतिशतकंपनीकेसीईओभारतीयहै।बदलावकेलिएरोजगारपरकशिक्षाकीओरहमेंआगेबढ़नाहोगा।यातोआपपरिवर्तनकरनेवालेबनिएयाफिरपरिवर्तनकेसाथचलनेवालेबननाहोगा।

बरेलीकालेजमेंभौतिकविज्ञानकेविभागाध्यक्षडा.वीपीसिंहनेअपनेआधारभाषणसेफोरमकाजोखाकाखींचा।उन्होंनेसंस्कारयुक्त,राष्ट्रीयतासेओतप्रोतउच्चशिक्षाकीवकालतकी।उनकामाननाहैकिविद्यार्थीकोआजीविकाकीचिंतानहींहोनीचाहिए।यदिज्ञानहैतोरास्ताबनहीजाएगा।शिक्षाकीगुणवत्ताकोसहीकरनेकेलिएछात्रोंकीसंख्याकेमुताबिकहीशिक्षकोंकीसंख्याहो।जिससेगुणवत्तादुरुस्तहोगी।

अच्छेनागरिककेनिर्माणमेंमहाविद्यालयकीभूमिकाविषयपरवीरांगनाअवंतीबाईलोधीराजकीयमहिलामहाविद्यालयकीप्राचार्यडा.मनीषारावनेविचारव्यक्तकरतेहुएकहाकियहहमारीजिम्मेदारीहै।उन्होंनेकहाकिआजकलशिक्षाकाउद्देश्यजीविकोपार्जनहोगयाहै।यहनहींहोनाचाहिए।नईशिक्षानीतिमेंकईऐसीचीजेंआईहैंजोकिछात्रोंकेलिएबहुतअच्छाहै।बच्चेकोउसकेमनमुताबिकविषयपरआगेलेजानाचाहिए।

क्षेत्रीयउच्चशिक्षाअधिकारीसंध्यारानीकीजगहउनकाप्रतिनिधित्वकरतेहुएडा.रंजूराठौरनेकहाकिअनुशासनकेबिनाकोईछात्रअच्छाइंसाननहींबनसकताहै।इसलिएजरूरीहैकिछात्रोंकोअनुशासनकापाठठीकसेपढ़ायाजाए।उन्होंनेशिक्षकोंकोछात्रोंकेसाथअभिभावकजैसेसंबंधबनानेकीनसीहतदेतेहुएकहाकिहमेंछात्रोंकेदुख-दर्दऔरसमस्याओंसेभीवाकिफहोनाचाहिए,तभीबेहतरतालमेलबनपाएगा।विद्यालयोंकोबच्चोंसेकनेक्टिविटीबढ़ानीहोगी।नईशिक्षानीतिबहुतअच्छीहै,लोगउससेकनेक्टनहींहोपाएहैं।इसकेलिएबच्चोंकोकनेक्टकरउन्हेंइसकेबारेमेंबतानाचाहिए।

साहूरामस्वरूपमहिलामहाविद्यालयमेंशिक्षाशास्त्रकीविभागाध्यक्षडा.राधायादवनेक्षेत्रीयभाषाओंमेंइंजीनियरिंगकोर्सऔरकार्यक्रमोंकीशुरुआतकीजारहीहै।नेशनलडिजिटलएजुकेशनआर्किटेक्चरऔरराष्ट्रीयशिक्षातकनीकीफोरमसार्थकपहलकेतौरपरहैं।उच्चशिक्षाकेअंतरराष्ट्रीयकरणकेसंदर्भमेंदिशा-निर्देशसहितआर्टिफिशियलइंटेलीजेंसकाप्रयोगभारतीयशिक्षाव्यवस्थामेंसकारात्मकबदलावकीशुरुआतहै।प्राइमरीसेइंटरमीडिएटतकबच्चेकोप्राइवेटजबकिउसकेऊपरहायरएजूकेशनमेंसरकारीविद्यालयोंमेंप्रवेशकेलिएसंघर्षकरतेहैं।

बरेलीकालेजकेसमाजशास्त्रकेडा.योगेंद्रप्रतापसिंहनेबतायाकिशिक्षानीतिमेंछहप्रतिशतजीडीपीकाखर्चहोनाचाहिए,लेकिनसरकारकितनाखर्चकररहीहै।यहकिसीसेछुपानहींहै।इसकेअलावाजिलेमेंहोरहेव्यापारकाडेटाहोनाचाहिए।जिससेमहाविद्यालयोंकोमालूमहोकिकिसउद्यमकेलिएकिसतरहकीशिक्षाकीआवश्यकताहै।

बरेलीकालेजकेअंग्रेजीविभागकीडा.चारूमेहरोत्रानेबतायाकिअधिकांशबच्चेबाहरशिक्षालेनाचाहतेहैं।इसकेपीछेदेखाजाएतोइंफ्रास्ट्रक्चरवसिस्टमकीकमीहोनाहै।जबकिबाहरकेकालेजोंमेंयहव्यवस्थाएंदीगईहै।दिल्लीकीओरलोगजानापसंदकररहेहैं।जबकिबरेलीमेंभीयहव्यवस्थाहोसकतीहै।इसपरकामकियाजानाचाहिए।बाहरछात्रोंकीसंख्याकमहोनेपरभीशिक्षकोंकोसुविधाएंदीजातीहै।जबकिहमारेपासछात्रोंकीसंख्याअधिकहोनेकेबादभीइसपरध्याननहींदियाजाता।यहभीकारणहैकिबच्चेबाहरपलायनकररहेहैं।पहलेबरेलीउद्योगनगरीथा।अबपुरानेउद्योगभीबंदहोगएहैं।इसकेलिएकुटीरउद्योगकोभीबढ़ावादेनाचाहिए।

ओमेगाक्लासेजकेडायरेक्टरमोहम्मदकलीमुद्दीननेकहाकिस्कूलोंमेंएनसीईआरटीकीकिताबेंचलनाचाहिए।प्रतियोगिताओंमेंएनसीईआरटीकिताबोंसेहीपूछाजाताहै।अभिभावकोंकोभीयहचाहिएकिअपनेबच्चेकीकिसीविशेषज्ञसेकाउंसिलिंगकराएंकिअपनेबच्चेकोकिसलाइनमेंभेजनाहै।जोकिस्मार्टएजुकेशनकाएकपार्टहै।

भारतीयप्रबंधनसंस्थानआइआइएमकाशीपुरकेविशेषज्ञडा.मनीषशर्मानेबतायाकिबीएससी,बीकामवबीएकरनेवालोंकोहमरोजगारनहींदेपाए।रुविविमेंरिसर्चकेलिएलैबहैं।बीएलएग्रोमेंअभीतककेवलएचबीटीयूकेहीछात्रलिएजातेथे,लेकिनरुविविअबइसपरकामकरनेजारहाहै।जिससेयहांकेछात्रोंकोयहींरोजगारमिलेगा।कहींनकहींइंटरमीडिएटशिक्षापरभीबदलावकीजरूरतहै।सरकारकेपासफंडिंगकेलिएप्राइवेटसेक्टरहैं।

बरेलीमेंआइटीपार्कसेंक्शनहैं।जिसपरसरकारकामभीकररहीहै।डेटारिफाइनरीपरभारतसरकारभीकामकरनाचाहतीहै।सभीमहाविद्यालयोंमेंकंप्यूटरसाइंसमेंछात्रोंकीकमीनहींहै।रोजगारपरकशिक्षाकीओरहमेंआगेबढ़नाहोगा।साइंसपार्कजल्दडेवलपहोनाचाहिए।जिससेलोगोंकोइसकालाभमिलसके।इंडस्ट्रीजकेअंदरजरूरतहैं,लेकिनउसमेंकामकरनेवालेलोगोंकीकमीहै।बहुतबड़ेपरिवर्तनकीजरूरतहै।एयरपोर्टबरेलीकेलिएरोजगारवअच्छीशिक्षालेकरआयाहै।जल्दहीबरेलीमेंअच्छीयूनिवर्सिटीहोंगी।जोकिटापथ्रीमेंशामिलहोगी।

बरेलीकालेजसेसमाजशास्त्रकेडा.अमितचिकारानेबतायाकिहमेंशिक्षाकीगुणवत्तापरध्यानदेनाचाहिए।समाजकेलिएहरप्रकारकीशिक्षाकाहोनाआवश्यकहै।जरूरीहैकिस्नातककेकोर्सकेलिएप्रवेशएंट्रेसकेजरिएहो।बच्चेकोबहारकामाहौलयहांमिले।ऐसीव्यवस्थाकीजानीचाहिए।निजीविद्यालयोंकाइंफ्रास्ट्रक्चरहीकेवलअच्छाहै।जबकिशासकीयविद्यालयोंमेंशिक्षकआयोगद्वाराचयनितवअच्छीशिक्षालेकरआएहुएहैं।लेकिनलोगोंकेदिमागमेंहैंकिशासकीयविद्यालयोंमेंपढ़ाईनहींहोती,उसेबाहरनिकालनाहोगा।जितनीजानकारीशिक्षककीहैउतनीहीजिम्मेदारीअभिभावकोंभीहैं।

बरेलीकालेजसेसमाजशास्त्रकेडा.तेजवीरसिंहनेबतायाकिअंग्रेजीमाध्यमसेहीशिक्षाकाविकासहो,यहजरूरीनहींहै।हमअपनीमातृभाषामेंबच्चोंकोशिक्षितकरेंवहज्यादाबेहतरहैं।आजशिक्षाकाज्ञानदियानहींबल्किउसेबेचाजारहाहै।शिक्षाबहुआयामीहैवबहुमुखीहै।बच्चेकोजिसओरजानेमेंरूचिहैउसेउसीदिशामेंबढ़ानाहोगा।छात्रोंकाध्यानएमटेक,बीटेकआदिपरअधिकहोताहै।जबकिछात्रोंकोस्थानीयशिक्षासेजोड़ाजानाचाहिए।एकजिलाएकउत्पादसभीसफलहोगीजबस्थानीयशिक्षाकोमहत्वदियाजाएगा।

बरेलीकालेजसेसमाजशास्त्रकेडा.आनंदविद्यार्थीनेबतायाकिकलासंकायमेंअधिकांशछात्रस्वयंसेहीपढ़नेवकालेजआदिमेंजानेकीजरूरतनहोनेकीबातकोदिमागमेंबैठाएहैं,उसेनिकालाजानाजरूरीहै।विश्वविद्यालयअपनीअहमभूमिकानिभासकतेहैं।इसकेलिएशासनकोइसकेलिएकुछफ्रीडमदेनीचाहिए।विविकोचाहिएकिकौनसेकोर्सचलानेचाहिएजिससेदूर-दूरसेछात्रउसेपढ़नेआए।अच्छेसंस्थानोंकीमददकरनीचाहिए।

खंडेलवालकालेजसेराकेशचतुर्वेदीनेबतायाकिकोरोनानेहमेंबहुतकुछसिखायाहै।85प्रतिशतशिक्षासेल्फफाइनेंसपरआधारितहै।जोकिअच्छीसेअच्छीशिक्षादेरहाहैउसपरसरकारकोईध्याननहींदेरही।15प्रतिशतजोकिशासकीयहैउसपरसरकारजोखर्चाकररहीहैउसकीस्थितिबहुतहीखराबहै।