चुनाव से पहले न बजे घोषणाओं का बाजा

प्रमुखसंवाददाता।।नईदिल्लीअगरचुनावसुधारकेलिएप्रस्तावितपहलकोकानूनीरूपमिलातोचुनावसेछहमहीनेपहलेकिसीभीतरहकीनीतिगतघोषणाकरनेपररोकलगजाएगी।चुनावमेंबेतहाशाखर्चसमेतकईऐसीगतिविधियोंपरअंकुशलगसकताहै,जोनिष्पक्षचुनावपरसवालखड़ेकरतेहैं।जनलोकपालकेबादटीमअन्नाकीचुनावसुधारकेलिएहल्लाबोलनेकीघोषणाकेबादचुनावआयोगनेसुधारकीप्रक्रियातेजकरदीहै।लेकिनसरकारकाइरादाहैकिइसमामलेमेंवहटीमअन्नाकोकोईक्रेडिटनलेनेदे।पिछलेदिनोंऐसामानागयाकियूपीकोबांटनेकाप्रस्तावऔरबुनकरोंकोपैकेजदेनेकीघोषणाभीचुनावीथी।उसकेबाद,चुनावसेठीकपहलेइसतरहकीघोषणाओंपररोकलगानेकीमांगभीउठीथी।फिलहालजबतकआचारसंहितालागूनहो,ऐसीघोषणाओंपररोकलगानेकाकोईकानूननहींहै।चुनावसुधारकेलिएपिछलेसाल1अक्तूबरकोअडिशनलसॉलिसिटरजनरलकेनेतृत्वमेंकोरकमिटीबनाईगईथी।इसकाकामराज्योंमेंजाकरचुनावसुधारपरचर्चाकरकेआमरायबनानाथा।कमिटीनेभोपाल,कोलकाता,मुंबई,लखनऊ,चंडीगढ़,बेंगलुरुऔरगुवाहाटीमेंवहांकेराजनीतिकदलोंऔरविशेषज्ञोंकीरायलेलीहै।कमिटीकीहररिपोर्टकाचुनावआयोगस्टडीकररहाहै।चुनावसुधारकेलिएदिएगएप्रस्तावमेंसभीराजनीतिकदलोंकेखातोंकाऑडिटसीएजीसेकरवानेकीबातकहीगईहै।आयोगकामाननाहैकिइससेचुनावमेंब्लैकमनीकेइस्तेमालपररोकलगसकेगी।दलबदलकानूनकोसख्तबनानेकीभीसिफारिशहै।चुनावआयोगनेरिप्रजेंटेशनऑफपीपल्सएक्ट,1951मेंसंशोधनकाप्रस्तावभीदियाहैताकिराइट-टु-रिजेक्टकीगंुजाइशबनसके।चुनावसुधारकीप्रक्रियामेंराइट-टु-रिकॉल,संसदऔरविधानसभाचुनावसाथकरानेजैसेप्रस्तावभीहैं।कानूनीविशेषज्ञोंकीटीमइनकीस्टडीकररहीहै।