coronavirus: मुश्किल दौर में योद्धा बन उभरे डीआइजी, न सिर्फ पुलिसिंग का तरीका बल्कि सोच भी बदली

देहरादून,जेएनएन।पुलिससेनदोस्तीअच्छी,नहीबैर।यहकहावतअबपुरानीहोचुकीहै।कोरोनासेजंगमेंअग्रिमपंक्तिमेंखड़ीमित्रपुलिसकेमानवीयचेहरेसेरूबरूहोनेकेबादलोगअबखाकीकोअपनासच्चाहमदर्दसमझनेलगेहैं।लोगोंकीसोचमेंइसबदलावकाश्रेयजाताहैडीआइजीअरुणमोहनजोशीको,जोइसमुश्किलदौरमेंयोद्धाकेतौरपरउभरेहैं।

यहडीआइजीकीदूरदर्शीसोचहीथीकिप्रदेशमेंकोरोनाकासंक्रमणपहुंचनेसेपहलेहीउन्होंनेइससेजंगकीयोजनाबनानाशुरूकरदियाथा।इसीतैयारीकानतीजाथाकिकोरोनासंक्रमणकेमामलेसामनेआतेहीडीआइजीनेपुलिसलाइनमेंकोविडकंट्रोलरूमकागठनकरदिया।जिसकीजिम्मेदारीएसपीक्राइमलोकजीतसिंहकोसौंपीगई।प्रदेशस्तरीयबनचुकायहकंट्रोलरूमइससमयदेशकानंबरवनकंट्रोलरूमहै।कोरोनाकोलेकरहरगतिविधिकीमॉनीटरिंगडीआइजीखुदहीकररहेहैं।

कोरोनासेलड़नेकेलिएपुलिसइससमयकिसीमल्टीनेशनलकंपनीकीतरहकामकररहीहै।जिसकेअंतर्गतसभीप्रकारकेडाटाकाकलेक्शनकियाजारहाहै।इसमेंराशनवितरणसेलेकरलोगोंकीअन्यसमस्याएंभीशामिलहैं।इसकीनिगरानीडीआइजीखुदकररहेहैं।जिलाप्रशासनसेलेकरसमाजसेवीसंगठनांेकीओरसेदियाजारहाराशनभीथानोंकेमाध्यमसेबंटवायाजारहाहै।इसकासबसेबड़ाफायदायहहुआकिहरव्यक्तितकमददपहुंचरहीहैऔरजोलोगकभीपुलिससेखौफखातेथेअबवहपुलिसकोअपनासमझनालगेहैं।

हरव्यक्तितकपहुंचेभोजन,ऐसीबनाईयोजना

कोईभीव्यक्तिभूखानरहे,इसकेलिएडीआइजीनेतीनश्रेणियांबनाईहैं।प्रथमश्रेणीमेंऐसेव्यक्तियोंकोरखागया,जिनकेपासराशनकार्डहै।उन्हेंसरकारीसस्तेगल्लेकीदुकानसेराशनउपलब्धकरवायाजारहाहै।दूसरीश्रेणीमेंऐसेव्यक्तियोंकोरखागयाजिनकेपासराशनकार्डनहींहै,परअपनाआवासहै।उन्हेंड्राईराशनउपलब्धकरायागया।तीसरीश्रेणीमेंवोलोगहैं,जिनकेपासनतोराशनकार्डहैऔरनहीखानाबनानेकेसंसाधन।पुलिसऐसेलोगोंकोरोजानाकुक्डफूडउपलब्धकरारहीहै।

यहभीपढ़ें:coronavirusकोहरानेकेलिएहरमोर्चेपरएकटीमबनकियाकाम,गरीबोंकेलिएबनेमसीहा

पुलिसकर्मियोंकादर्दभीसमझा

कोरोनाकेखिलाफजंगमेंडीआइजीकोलापरवाहीभीबर्दाश्तनहींहै।जहां-जहांलापरवाहीदेखी,वहांडांटफटकारभीलगाई।इसकाताजाउदाहरणघंटाघरकेनिकटदुकानदारद्वारानियमोंकापालननकरनाभीहै।वहीं,गर्महोतेमौसमकेबीचपुलिसपिकेटोंमेंड्यूटीकररहेपुलिसकर्मचारियोंकादर्दसमझतेहुएडीआइजीनेउनकेलिएजूसऔरठंडेपेयपदार्थपहुंचानेकाआदेशदियाहै।

यहभीपढ़ें:UttarakhandLockdown:बड़ीसंख्यामेंमददकोउठेहाथ,कहींभराभूखोंकापेट,तोकहींबांटाराशन