चंदे से चमका रहीं जरूरतमंदों का भविष्य

भूपेंद्र¨सह,राठ(हमीरपुर)

कुछकरगुजरनेकाजज्बातोअकेलेहीबदलावलायाजातासकताहै।बसकदमबढ़ानेकीजरूरतहै।ऐसाहीएककदमआजसेदससालपहलेशहरकीममतारविगुप्तानेबढ़ायाथा।आजउनकीमुहिमकारवांबनचुकीहै।उनकीटीमचंदेसेजरूरतमंदोंकाभविष्यचमकारहीहैं।

ममतानेतकरीबनदससालपहलेमहिलाशक्तिसंस्थानकीशुरुआतकी।संस्थानकीओरसेगरीबबेसहाराऔरजरूरतमंदोंकोआर्थिकसहायतादी।समयबीतातोउनकीपहलरंगआईऔरइसमुहिमसेऔरभीमहिलाएंजुड़तीचलीगई।चाहेकिसीबेटीकोपढ़ानाहोयाफिरमहिलाकोस्वरोजगारकेलिएप्रशिक्षितकरना,किसीगरीबबेटीकीशादीहोयाफिरबीमारीमेंधनकीजरूरत।येमहिलाएंचंदाकरकेमददकरतीहैं।

संस्थाकीओरसेस्कूल-कॉलेज,सरकारी,गैरसरकारीस्कूलोंमेंफलवितरण,वस्त्रवितरण,गोष्ठियां,पौधरोपणतथाबालिकाओंकोआत्मरक्षाकेटिप्सभीदिएजातेहैं।इसकेअलावास्कूल-कॉलेजोंमेंकंपटीशनकराकरछात्रछात्राओंकोहुनरमंदभीबनायाजाताहै।

जैविकखेतीकेलिएकरतीहैंप्रेरित

महिलाशक्तिसंस्थानसेजुड़ीशहरकेसाथ-साथगांवोंमेंजाकरभीसेवाकार्यकरतीहैं।येविभिन्नप्रकारकेफसलोंकीजानकारियोंकेसाथकिसानोंकोजैविकखेतीकेलिएप्रेरितकरतीहैं।चिकित्साशिविरलगाएजातेहैं।

एकपहलजोकारवांबनगई

ममतानेबतायाकि2009मेंमहिलाओंकोसशक्तबनानेकेलिएसंस्थाकीशुरुआतकी।इसकेबादकारवांबढ़तागयाऔररेखापुरवार,रोमासोनी,कामायनी,प्रीतिसोनी,संध्याज्योतिषी,कपूरीसोनी,रीतासोनीसहितकईमहिलाएंसंस्थासेजुड़करसेवाकार्यकररहीहैं।