चिकित्सक न दवा, कैसे हो बेजुबानों का इलाज

कुशीनगर:तमकुहीराजतहसीलक्षेत्रकेपशुपालकोंकोपशुओंकीबीमारीकीदशामेंइलाजकरानेमेंकठिनाइयोंकासामनाकरनापड़रहाहै।तहसीलक्षेत्रमेंकुलछहपशुअस्पतालहैं,लेकिनचिकित्सकोंकीतैनातीनहोनेसेयेबेमतलबसाबितहोरहेहैं।दवाओंकीभीकमीरहतीहै।कुछजगहोंपरसप्ताहमेंएक-दोदिनकेलिएचिकित्सकसंबद्धकिएगएहैं।ऐसेमेंबिनाचिकित्सकवदवाकेअभावकेचलतेबेजुबानोंकाइलाजकरानापशुपालकोंकेलिएटेढ़ीखीरसाबितहोरहाहै।

तमकुहीराज,दुदही,तुरपट्टी,तरयासुजान,समउरवसेवरहीमेंसिर्फसमऊरअस्पतालपरपशुचिकित्सकदिनेशमौर्याकीतैनातीहै।इनकेपाससेवरही,दुदही,तरयासुजानकाअतिरिक्तचार्जभीहै।कसयापशुअस्पतालमेंतैनातचिकित्सककेपासतमकुहीराजकाअतिरिक्तचार्जहै।स्थायीरूपसेतैनातफार्मासिस्टबृजेशकुमाररायकेजिम्मेचिकित्साव्यवस्थाहै।यहांचतुर्थश्रेणीकर्मचारीराजकुमारयादवऔरस्वीपरकेपदपरगुड्डीदेवीतैनातहैं।वर्ष2010केबादआजतकस्थायीरूपसेकिसीचिकित्सककीतैनातीनहींहोसकी।इससेपशुचिकित्सकविवशहोकरनिजीचिकित्सकोंसेपशुओंकाइलाजकरानेकेलिएमजबूरहैं,जहांउनकेस्वास्थ्यसुरक्षाकीकोईगारंटीनहींहै।साथहीसमयवधनभीबर्बादहोताहै।-सुमहीकेसुरेंद्रदुबेनेकहाकिसेवरहीपशुअस्पतालमेंचिकित्सकनहोनेसेपशुओंकोइलाजकरानेमेंदिक्कतेंआरहीहैं।

-जमुआनटोलानिवासीसहदेवनेकहाकिपशुचिकित्साविभागकीउदासीनतापशुपालकोंपरभारीपड़रहीहै।दवाभीनहींहै।

-गुरवलियाकेदेवीपुरनिवासीइसरायलअंसारीनेकहाकिपशुकेबीमारहोनेपरउनकाइलाजकरानाबड़ामुश्किलहोजाताहै।

-दुमहीकेजगरनाथतिवारीनेकहाकिपशुचिकित्सालयोंमेंचिकित्सकवदवाकाअभावजिम्मेदारोंकीउदासीनतादर्शातीहैं।

चिकित्सकोंकीतैनातीकेलिएशासनकोपत्रभेजागयाहै।कमीकेकारणमौजूदचिकित्सकोंकोअतिरिक्तचार्जदेकरकामचलायाजारहाहै।

डा.एसकेसिंह,जिलापशुचिकित्साधिकारी