छूट के बाद भी कई महिलाएं कर रही हैं Odd-Even योजना का पालन

नईदिल्ली:दिल्लीमेंसम-विषमयोजनाकेतहतभलेहीमहिलाओंकोछूटमिलीहो,लेकिनशहरकीकईमहिलाएंस्वत:इसयोजनाकापालनकरतेहुएकारपूलिंगएवंसार्वजनिकयातायातकासहारालेरहीहैं।उनकाकहनाहैकिवेसमताकेसिद्धांतकोदेखतेहुए‘विशेषाधिकार’नहींचाहतीहैं।

नईदिल्ली

शिक्षापरामर्शदाताकेतौरपरकामकरनेवालीसाक्षीमित्तलइसयोजनाकेतहतमहिलाचालकोंकेसाथ12सालतकबच्चोंकेयात्राकरनेपरमिलीछूटसेइत्तेफाकनहींरखतीहैं।उनकेमुताबिकयहव्यवस्थाउसपारंपरिकचलनको‘संस्थागत’बनानाहैजिसमेंसिर्फमहिलाओंसेबच्चोंकीदेखभालकीउम्मीदकीजातीहै।

साक्षीनेकहा,‘अगरसरकारबच्चेकेसाथजानेवालीमहिलाओंकोछूटदेनाचाहतीहैतोइसीतरहसेबच्चोंकेसाथसफरकरनेवालेपुरूषोंकोभीछूटदीजानीचाहिए।’विज्ञापनकेक्षेत्रमेंकामकरनेवालीमरियमचौहाननेकहा,‘अगरमैंमेट्रोपकड़तीहूंतोमुझेगोविंदपुरीमेट्रोस्टेशनउतरनाहोताहैऔरवहांसेमुझेऑटोलेनापड़ताहैक्योंकिमैंबटलाहाउसमेंरहतीहूंऔरवहांनजदीकमेंकोईमेट्रोस्टेशननहींहै।मुझेऑटोमेंअकेलेसफरकरनेमेंडरलगताहै,लेकिनइसकेसिवायकोईदूसराविकल्पनहींहै।’स्नातकोत्तरकीछात्राआलियाखानहरदूसरेदिनकारपूलिंगकासहारलेतीहंै।इसीतरहबहुतजल्दकारखरीदनेजारहीमनीषात्यागीसमविषमयोजनाकापालनकररहीहैं।मनीषाकाकहनाहैकिमहिलाओंकोइसयोजनाकेतहतछूटनहींमिलनीचाहिए।