छत्तीसगढ़ में कोंडागांव कैंप के जवान पहले बच्चों को पढ़ाते हैं, फिर उनसे सीखते हैं हल्बी बोली

पूनमदासमानिकपुरी,कोंडागांव।छत्तीसगढ़केबस्तरमेंनक्सलमोर्चेपरतैनातजवानगोलीकेसाथबोलीसेभीइससमस्याकेसमाधानकीराहपरचलरहेहैं।स्थानीयबोलीहल्बीनहींसमझपानेकेकारणहोनेवालीसंवादहीनताकोखत्मकरनेकेलिएवेकईबारप्रशिक्षणकीमांगकरचुकेहैं,लेकिनकोईखासपहलनहींहोपाई।ऐसेमेंकोंडागांवकेहडेलीआइटीबीपीकैंपमेंतैनातजवानोंनेइसकाहलनिकाललियाहै।सर्चिंगकेबादवहस्थानीयस्कूलमेंजाकरबच्चोंकोगणित,विज्ञानआदिविषयपढ़ातेहैं।बदलेमेंस्कूलकेबच्चोंसेहल्बीसीखतेहैंयानीस्कूलसमयमेंजवानशिक्षककीभूमिकामेंरहतेहैंऔरछुट्टीहोनेकेबादजवानविद्यार्थीवविद्यार्थीशिक्षककीभूमिकामेंआजातेहैं।

जिलामुख्यालयकोंडागांवसे45किलोमीटरदूरमर्दापालकावनांचलग्रामहड़ेलीनारायणपुरजिलेकेअबूझमाड़सेसटाहुआधुरनक्सलप्रभावितइलाकाहै।करीबसालभरपहलेयहांआइटीबीपी41वींवाहिनीकाकैंपखोलागया।मकसदइलाकेमेंशांतिलाना,नक्सलियोंकोखदेड़नाथा।लेकिनइसराहमेंबोलीसबसेबड़ीसमस्याबनकरसामनेआई,क्योंकिनक्सलियोंकासामनाग्रामीणोंकीमददकेबिनासंभवनथा।दूसरीओरतत्कालीनहालातयहथेकिग्रामीणवर्दीधारीजवानोंकोदेखतेहीघरोंमेंदुबकजातेथे।जवाननतोग्रामीणोंकीबातसमझपातेथे,नहीअपनीबातसमझापातेथे।इससेउनका भरोसाजीतनामुश्किलहोरहाथा।

बच्चोंकेरास्तेपालकोंकाजीताभरोसा

डिप्टीकमांडेंटदीपकभट्टबतातेहैंकिहमारेजवानोंनेकुछहीदिनोंमेंसमझलियाथाकिकेवलबंदूककेसहारेनक्सलमोर्चाजीतानहींजासकता।स्थानीयलोगोंसेसंवादजरूरीहै।आखिरकारउन्होंनेरास्ताखोजनिकाला।सर्चिंगसेलौटनेकेबादजवानगांवकेमिडिलस्कूलपहुंचजातेहैं।एमएड-बीएडशिक्षितजवानवहांबच्चोंकोपढ़ातेहैं।स्कूलमेंशिक्षककीकमीहोनेकेकारणइससेबच्चोंकोपढ़ाईमेंमददमिलनेलगी।धीरे-धीरेबच्चेउनकेकरीबआतेगए।इससेग्रामीणोंकाभीभरोसाबढ़तागया।उन्हेंलगनेलगाकिहमउनकेऔरउनकेबच्चोंकेहितैषीहैं,दुश्मननहीं।बच्चोंनेजवानोंकोहल्बीबोलनाऔरलिखनासिखानाशुरूकरदिया।

भट्टबतातेहैंकिग्रामीणछोटी-मोटीसमस्याओंकेलिएप्रशासनकेपासजानेकेबजायउनकेपासआतेहैं।बीमारहोनेपरकैंपमेंआकरइलाजकरातेहैं।कैंपकेभीतरस्थितबोरवेलसेउन्हेंस्वच्छपानीउपलब्धकरायाजाताहै।कैंपकेसामनेबाजारशुरूकरादियागयाहै।इससेव्यापारीवग्रामीणदोनोंकोलाभहोरहाहै।सिविकएक्शनप्रोग्राममेंग्रामीणोंकोजरूरतकासामानवितरितकरतेहैं।अबतककईनक्सलीसमर्पणकरचुकेहैं।

बड़ाकामकररहेजवान

प्राचार्यस्कूलकेप्राचार्यबंशीलालकश्यपकहतेहैंकिजवानमानवताकेनातेहीसही,बच्चोंकोपढ़ाकरबहुतबड़ाकामकररहेहैं।नक्सलक्षेत्रमेंबच्चेभटकनेसेबचजाएं,इसकेलिएउन्हेंरास्तादिखारहेहैं।स्कूलमेंपर्याप्तशिक्षकनहींहैं।जवानोंकीपहलसेमददमिलरहीहै।