छह माह में 55 हजार ने देखा भगत सिंह म्यूजियम

जागरणटीम,नवांशहर:शहीदएआजमसरदारभगतसिंहकेम्यूजियमकालोकार्पण23मार्चकोकियागयाथा।उसकेबादसेयहांशहीदसेजुड़ीनिशानियोंवयादगारकोदेखनेकेलिएऔसतनकरीबढाईहजारलोगरोजानाआरहेहैं।मार्चसेअबतककरीब55हजारलोगम्यूजियमकादौराकरचुकेहैं।भलेहीकोरोनाकेकारणभगतसिंहकेजद्दीगांवखटकड़कलांमेंउनकेस्मारकपरमाथाटेकनेवालोंकीसंख्यामेंकमीआईहै,परअबभीहररोजसैकड़ोलोगआतेहैं।वहसरदारभगतसिंहकीसोचकेआजभीकायलहैंऔरउन्हेंआजभीसजदाकरतेहैं।वर्षमेंदोबारउनकेस्मारकपरसियासीलोगोंसेलेकरआमजनतातकसजदाकियाजाताहै।म्यूजियमकाउद्घाटन2018में23मार्चकोपूर्वमुख्यमंत्रीकैप्टनअमरिदरसिंहनेकियाथा।म्यूजियमकेनिर्माणपरकरीब18करोड़रुपयेकीलागतआईथी।शहीदभगतसिंहस्मारककीस्थापना1980मेंखटकड़कलांकेमुख्यगेटकेपासकीगईथी,उसीइमारतकोम्यूजियमकेविस्तारकरइसकोतैयारकियागयाहै।नौसालमेंपूराहुआथाप्रोजेक्टम्यूजियमकेनिर्माणकेप्रोजेक्टकाशिलान्यासफरवरी2009मेंतत्कालीनकेंद्रीयमंत्रीपीचिदंबरमनेकियाथा।इसप्रोजेक्टकेलिए16करोड़मंजूरकिएगएथे।स्मारकको11एकड़जमीनमेंमेंदोसालमेंबनायाजानाथा,लेकिनप्रोजेक्टकेप्रतिसरकारकीलापरवाहीकेकारणयहप्रोजेक्टनौसालमेंजाकरपूराहुआ।कर्मचारियोंकीहैकमीम्यूजियमकेइंचार्जजोधपालसिंहनेकहाकिबेशककोरोनाकेकारणलोगकमगिनतीमेंआरहेहैं,फिरभीम्यूजियमकोसहीढंगसेचलानेकेलिएमैनपावरकीबेहदीकमीहै।लोगोंकोसुविधाएंमुहैयाकरवायाजानाबहुतजरूरीहै।म्यूजियममेंशहीदएआजमभगतसिंहकेजीवनसेसंबंधितकीमतीसामानरखागयाहै।यहांसुरक्षाकेलिएहरसमयकेवलएककर्मीहीउपलब्धहोताहै।यहांकेवलचारसिक्योरिटीगार्डहैं,जबकिजरूरतआठकीहै।इसकेअलावाएकस्वीपरवएकमालीवएकअटेंडेंटहै।