छह माह में 230 सड़क हादसे, 105 ने गंवाई जान, 172 हुए चोटिल

जागरणसंवाददाता,कुरुक्षेत्र:जिलेमेंबीतेछहमाहकेदौरानसड़केंखूनसेलालहोतीरहीहैं।शायदहीकोईदिनऐसाहोगाजिसदिनकोईसड़कहादसानहुआहोऔरकोईघायलनहुआहो।यहसबहुआतेजरफ्तारवाहनचलानेववाहनचलातेसमयलापरवाहीबरतनेकेकारण।यातायातपुलिसवाहनचालकोंकीगतिकोनियंत्रितकरनेकेलिएसड़कोंपरगतिजांचवाहनकीमददसेचालानतोकरतीहै,मगरवाहनचालकइसचालानसेनहींडरतेऔरनियमोंकोताकपररखकरवाहनचलातेहैं।जिसकाखामियाजाउन्हेंखुदवदूसरोंकोभुगतनापड़ताहै।

जिलापुलिसकेआंकड़ोंपरनजरदौड़ाएंतोऐसाहीप्रतीतहोरहाहै।एकजनवरीसे30जूनकेबीचजिलेभरमें230सड़कहादसेहुएहैं।इनसड़कहादसोंमें105लोगोंनेअपनीजानगंवाईहै,वहीं172लोगोंकोचोटेंआईहैं।पुलिसयहभीमाननाहैकिसड़कहादसोंकेदौरानघायलहुएलोगोंमें30प्रतिशतलोगोंकीतीनमाहकेअंदरमौतहोजातीहैयावेताउम्रअपंगहोजातेहैं।यहतेजरफ्तारवलापरवाहीसेवाहनचलानेकानतीजाहै।

डीएसपीयातायातनरेंद्रसिंहकाकहनाहैकिदेशमेंइतनीमौतेंबीमारियोंसेनहींहोती,जितनीकिसडकदुर्घटनाओंकेकारणहोतीहैं।सड़कदुर्घटनाकेमुद्देकोगंभीरतासेलेनाचाहिए,अधिकतरमौतेंलापरवाहीकेहीकारणहोतीहैं।युवाओंकेबीचबाइकक्रेजबढ़रहाहै,मगरवेनियमोंकापालननहींकरते।बाइककेलिएहेलमेटपहननाऔरगतिसीमापरअंकुशरखनाजरूरीहै।जिसप्रकारहमअपनेमोबाइलपरकवरयास्क्रीनगार्डलगानानहींभूलतेउसीप्रकारदोपहियावाहनपरचलतेसमयहमेशाहेलमेटपहनें।हममोबाइलयाडिशटीवीकारिचार्जसमयपरकरातेहैं,परंतुबाइकयागाड़ीकाइंश्योरेंसवप्रदूषणसर्टिफिकेटलेनाभूलजातेहैं।बाजार,चौक-चौराहेयाकैंटीनमेंघंटोंबातचीतमेंबितासकतेहैंपररेडलाइटपरदोमिनटरुकनामुश्किललगताहै।इनसभीबातोंकोयदिहमअपनेरोजानाकेव्यवहारमेंशामिलकरलेंतोहररोजबढ़रहेसड़कहादसोंकोकमकियाजासकताहै।

आंकड़ेएकनजरमें

एकजनवरीसे30जूनतककिएचालान:28हजार999

एकजनवरीसे30जूनतकवाहनचालकोंपरजुर्माना:एककरोड़,42लाख79हजार800रुपये

एकजनवरीसे30जूनतकसड़कहादसे:230

एकजनवरीसे30जूनतकसड़कहादसोंमेंमौत:105

एकजनवरीसे30जूनतकसड़कहादसोंमेंघायल:172