बुवाई से पूर्व धान के बीज को 15 घंटे तक पानी में छोड़ना जरूरी

सीतामढ़ी।डुमराप्रखंडकेभूपभैरौमेंकृषिविज्ञानकेन्द्रकीओरसेसमाजिकदूरीअपनातेहुएधानकीवैज्ञानिकखेतीविषयपरएकदिवसीयप्रशिक्षणकार्यक्रमकाआयोजनकियागया।जिसमेंकेन्द्रकेसस्यवैज्ञानिकसच्चिदानन्दप्रसादनेबतायाकिजोकिसानसब्जीकीखेतीकरतेहैउन्हेंअल्पअबधिएवंऊपरीजमीनकेलिएप्रजातिप्रभात,तुरन्ता,सरोज,राजेन्द्रभगवती,रिछारीयाआदिको10जुलाईतकनर्सरीगिरालें।एकएकड़खेतकीरोपाईकेलिए10किलोग्रामबीजकाप्रयोगकरें।सबसेपहलेधानको15घंटोंतकपानीमेंछोड़देंइसकेबादबाहरनिकालकरबीजकोफैलादेफिर2ग्रामकर्बेन्डाजिमएककिलोग्रामबीजकीदरसेमिलाकरउपचारितकरजूटकेबोरेसेढंककर20-25घंटेतकछोड़दें।इसकेबादअच्छेसेतैयारकिएगएखेतमेंबीजगिरादें।खरपतवारनर्सरीमेंनहोइसकेलिएअगरकिसानभाईअछरुयाविधिद्वारागिरारहेहैंतोबीजगिरानेके8वेंदिनब्यूटाक्लोर5मिलीलीटरप्रतिलीटरपानीकीदरसेस्प्रेकरदें।बिचड़ेकीआयु25दिनकाहोगयाहोउसेरोपाईकेलिएविलंबनकरें।प्रशिक्षणकार्यक्रममेंकृषिसमन्वयककुमारगौरव,किसानसलाहकारविमलकुमारसुमनएवंरामलालसिंह,अंगधकुमारसमेत25किसानउपस्थितथे।