बंद खदानों में जमा पानी बन सकती जीवनधारा

बेरमोमेंदर्जनोंबंदकोयलाखदानहैं,जिसमेंजमापानीजीवनधाराबनसकतीहै।यदिइसओरजाड़ेकेमौसममेंहीसीसीएलप्रबंधनकेसाथ-साथशासन-प्रशासनध्यानदे,तोगर्मीकेमौसममेंयहांकेलोगोंकोपानीकीकिल्लतसेजूझनानहींपड़ेगा।जबकिसंरक्षणकेअभावमेंवहसभीबंदखदानभूमिगतपानीसोखलेरहीहै।साथहीप्यासबुझानेकेबजायलोगोंकीजानकीदुश्मनभीबनगईहै।वहीं,कोयलाखदानोंकीसंख्याबढ़नेसेजलसंरक्षणकीव्यवस्थाप्रभावितहुई।क्योंकिखदानोंकीगहराई400-500फीटहोनेकेकारणभूमिगतपानीउसओरबहजाताहै।यहीकारणहैपिछलेवर्षकेसरकारीसर्वेक्षणकेतहतबेरमोकोयलांचलकोझारखंडराज्यकासर्वाधिकड्राईएरियाघोषितकियागया।जबकिभूमिगतपानीकेबहावकेकारणबेरमोकोयलांचलकीदर्जनोंखदानोंमेंअथाहपानीभरेपड़ेहैं,जोपरिष्करणकरआपूर्तिकीव्यवस्थाकेअभावमेंयूंहीबेकारपड़े-पड़ेलोगोंकीजानकेदुश्मनबनेहुएहैं।उनखदानोंमेंनहानेकेक्रममेंडूबकरमरनेकीघटनाप्रत्येकवर्षघटतीरहतीहै।--जमीनकेनीचेबहरहाआगकादरिया:बेरमोकोयलांचलकेकुछइलाकेकीजमीनकेनीचेपानीकेबजायआगकादरियाबहरहाहै।यहस्थितियहांभूमिगतकोयलेमेंलगीआगकेकारणकोलबेडमिथेनगैसउत्पन्नहोनेकीवजहसेहुईहै।सीसीएलबीएंडकेप्रक्षेत्रकीपुरानीपांचनंबरखदानकेसमीपस्थितजरीडीहबाजारकेनीचेपट्टीमेंबीते28जनवरी-2013कोमदरसाबरकातआलेमुस्तफाकेपरिसरमेंडीपबोरिगकरनेकेक्रममेंउसवक्तअफरातफरीमचगईथी,जबबोरिगहोलसेपानीकेबजायआगकीलपटउबलनेलगीथीं।उसआगसेबोरिगमशीनजलकरराखहोगईथीऔरएकमजदूरझुलसगयाथा।उसआगकोबोकारोकीओएनजीसीटीमनेआकरकाबूमेंकियाथा।साथहीबतायाथाकियहांआगभूमिगतमिथेनगैसकेकारणभड़कीथीऔरस्थानीयलोगोंकोटीममेंसम्मिलितअधिकारियोंनेचेतायाथाकिइसइलाकेमेंभविष्यमेंकभीभीडीपबोरिगनकराईजाए,वरनाआगउबलनेलगेगी।उसकेछहमाहबादहीसीसीएलढोरीप्रक्षेत्रअंतर्गतढोरीस्टाफक्वार्टरइलाकेमेंडीपबोरिगकरनेकेक्रममेंआगनेउबलकरअफरातफरीमचादीथी।

--गर्मीमेंसिमटजातीनदियोंकीजलधारा:यहांस्थितदामोदर,कोनार,जमुनिया,कटेल,खांजोवबोकारोनदीजलापूर्तिकेमुख्यस्त्रोतहैं,जोगर्मीकेमौसममेंजलधारासिमटजानेकेकारणलोगोंकीप्यासबुझानेमेंअक्षमहोजातीहैं।जलधारासिमटजानेकेकारणउसकेतटपरनिर्मितइन्टेकवेलतकपर्याप्तमात्रामेंपानीनहींपहुंचपाताहै,उसकेबादजलापूर्तिबाधितहोजातीहै।वर्जन

बंदकोयलाखदानोंमेंजमापानीकोसप्लाईकरनेकीदिशामेंसीसीएलकीओरसेकार्यकियाजारहाहै।बेरमोकीकुछखदानोंकेपानीकोआसपासकेइलाकेमेंपाइपलाइनसेभेजाजारहाहै,जोनहाने-धोनेकेकामआतेहैं।फिल्टरकरपीनेयोग्यबनानेकीदिशामेंशीघ्रहीपहलकीजाएगी।-एमकेअग्रवाल,महाप्रबंधक,सीसीएलढोरीप्रक्षेत्र