बीमारी का घर पर्यावरण दोहन : डॉ. मुरारी लाल वैद्य

जासं,चाईबासा:आजहमलोगपर्यावरणसेजितनेदूरभागरहेहैंरोगकेउतनेहीकरीबआतेजारहेहैं।जबतकहमलोगोंनेपर्यावरणकोअपनादेवताऔरसंस्कृतिमानीतबतकहमनिरोगरहरहेथेपरंतुजैसे-जैसेहमलोगोंनेअपनीसुख-सुविधाकेलिएपर्यावरणकादोहनकियावैसे-वैसेहमलोगज्यादाबीमाररहनेलगे।यहबातेंकोल्हानविश्वविद्यालयकेप्रो.मुरारीलालवैद्यनेकही।उन्होंनेकहाकिपर्यावरणइतनादूषितहोगयाहैकिशुद्धहवाभीहमेंनहींमिलरहीहै।हमलोगोंनेअपनेपैरपरहीकुल्हाड़ीमारदीहै,हमेंवापससेपर्यावरणकोवहीदर्जादेनाहैजोहमारेपूर्वजोंनेदियाथा।उन्होंनेकहाकिपर्यावरणकीरक्षायदिहमकरेंगेतबहीपर्यावरणहमारीरक्षाकरेगा।