भूख, प्यास और मार से आक्रामक हो रहे सांड

जेएनएन,बुलंदशहर।सरकारगायऔरगोवंशोंकोसंरक्षितकरनेकेलिएगौआश्रयस्थलबनवादिएलेकिनगोवंशऔरसांडअभीभीसड़कोंपरखुलेघूमरहेहैं।बेसहारागोवंशऔरसांडभूखमिटानेकेलिएकिसानोंकेखेतोंमेंघुसकरचाराखातेहैंऔरनुकसानकरतेहैं।किसानइनकोखदेड़तेहैं।नतीजनसांडआक्रामकहोरहेहैं।

यहीकारणहैकिशहरसेदेहाततकसांडऔरगोवंशलोगोंपरलगातारहमलाकररहेहैं।कईबारसांडसड़कोंपरभीआपसमेंभिड़तेहैंतोकभीलोगोंकोटक्करमारनेकेलिएदौड़तेहैं।पिछलेतीनदिनमेंस्यानाकेगांवदेहरामेंसांडनेपचासवर्षीयमहिलाकोपटक-पटककरमारडाला।उधरखुर्जामेंभीसांडनेहमलाकरदोलोगोंकोघायलकरदिया।इससेपहलेभीडिबाई,शिकारपुर,ऊंचागांवऔरअनूपशहरमेंसांडकेहमलेसेलोगोंकीजानेंगईहैं।प्रशासनऔरपशुपालनविभागकीजानकारीकेमुताबिकपिछलेतीनसालमेंछहसेअधिकलोगोंकीसांडोंकेहमलोंमेंमौतहुईहै।जबकहींमौतहोतीहैतोआक्रोशितपरिजनऔरलोगसांडकोपकड़नेकेलिएहंगामा-प्रदर्शनकरतेहैं।सरकारीआश्वासनभीमिलेहैंलेकिनवक्तकेसाथसबफाइलोंमेंदबकररहजातेहैंलेकिनसड़कोंपरघूमरहेबेकाबूसांडोंकोपकड़नेकेलिएधरातलपरकभीकोईठोसअभियाननहींचला।इसीकेचलतेअभीतकआवारासांडोंकीसमस्याबनीहुईहै।शहरसेपकड़ेगांवमेंछोड़े

-कईबारशहरीक्षेत्रमेंसांडकोकिसीतरहपकड़करगांवमेंछोड़देतेहैं।वहफिरलौटकरशहरमेंआजातेहैं।कईबारएकगांवसेदूसरेगांवमेंभीइनकोदौड़ायाजाताहै।पांचहजारसेअधिकसांड

-जिलेभरमेंपांचहजारसेअधिकसांडसड़कोंपरघूमरहेहैं,जोकिफसलोंकोनुकसानपहुंचानेकेसाथहीराहचलतेलोगोंपरहमलाकरतेहैं।इन्होंनेकहा..

जिसप्रकारइंसानभूखऔरप्याससेपरेशानहोताहैवैसेहीजानवरभीहोताहै।लोगडंडाऔरपत्थरसेसांडकोमारतेहैंइससेभीउसकेस्वभावपरअसरपड़ताहै।जानवरप्यारकेव्यवहारकोसमझतेहैं।डंडायापत्थरमारनेसेचिड़चिड़ेहोजातेहैंऔरहमलावरहोतेहैं।

-डा.राजीवसक्सेना-सीवीओ