बहना आज बांधेगी भाइयों की कलाई पर राखी

संवादसूत्र,चतरा:भाई-बहनकेअटूटप्रेमकापर्वरक्षा-बंधनकीतैयारियांपूरीकरलीगईहैं।रविवारकोरक्षाबंधनकापर्वहै।शनिवारकोपूरेदिनबाजारमेंचहल-पहलरहा।मिठाईकीदुकानसेलेकरराखीकीदुकानोंपरजबर्दस्तभीड़दिखी।सुबहसेहीलोगबाजारमेंखरीदारीकोलेकरभीड़होनेलगीथी।लोगोंकाउत्साहचरमपरहै।हालांकिइसबारभीवैश्विकमहामारीकोरोनाकेकारणकुछबंदिशेंहैं।सरकारनेगाइडलाइंसजारीकरआवश्यकदिशानिर्देशदिएहैं।जिसकालोगपालनकररहेहैं।वैसेपिछलेवर्षकीतरहसख्तीनहींहै।शनिवारकोबाजारमेंभीड़अधिकहोनेकीएकवजहयहभीहैकिरविवारकोपूर्णबंदीरहतीहै।खाद्यान्नऔरमिठाईकेदुकानतोखुलेरहेंगे।लेकिनराखीकेअस्थायीदुकानखुलेंगेयानहीं,जिसकीवजहसेप्राय:लोगशनिवारकोहीराखीकरनेकेलिएनिकलेथे।वैसेबहुतसारेतोऐसेहैं,जिन्हेंराखीबाहरभेजनीथी,उन्होंनेपहलेकीखरीदकरउसेभेजदिया।बाजारमेंपांचरुपयेसेलेकरपांचसौतककीराखीउपलब्धहै।राखीबेचनेकेलिएशहरमेंदोदर्जनसेअधिकअस्थायीदुकानेंलगाईगईहै।पर्वकोलेकरउत्साहहै,लेकिनबाजारमंदाहै।राखीविक्रेतामनोजकुमारकहतेहैंकिइससालबाजारबहुतमंदाहै।ऐसीस्थितिपिछलेवर्षभीनहींथी।मनोजकहतेहैंकिउनकेदुकानमेंपांचरुपयेसेलेकरपांचसौतककेराखीहैं।लेकिनखरीदारपचाससेसौतकहीआरहेहैं।बिक्रीभीअच्छीनहींहै।कमोबेशयहीहालदूसरेदुकानदारोंकाभीहै।मेनरोड़निवासीप्रदीपकुमारकहतेहैंकिकोरोनानेबाजारकोमंदाकरदियाहै।रक्षाबंधनसेत्योहारएकप्रकारसेश्रृंखलाशुरूहोताहै।इसकेबादकरमा,जिउतिया,विश्वकर्मापूजा,दुर्गापूजा,दीपावलीऔरछहमहापर्वहै।लेकिनबाजारअच्छीनहींहै।ऐसेमेंबहुतउम्मीदनहींकरसकतेहैं।