भक्तों के बस में होते हैं भगवान : अनंताचार्य

खगड़िया।जवाहरइंटरविद्यालयपरिसरमेंअवस्थितमाताअन्नपूर्णामंदिरमेंश्रीशिवशक्तियोगपीठनवगछियाकेतत्वाधानमेंस्वामीआगमानंदजीमहाराजकीअगुवाईमेंआयोजितनौदिवसीयश्रीविष्णुमहायज्ञसहश्रीमद्भागवतज्ञानकथाकेचौथेदिनमंगलवारकोभारीसंख्यामेंश्रद्धालुजुटे।मौकेपरकथावाचकस्वामीअनंताचार्यजीमहाराजनेकहाकिभगवानतोभक्तोंकेबसमेंहोतेहैं।सच्चीभक्तिहोनीचाहिए।कहाकिसचमेंभक्तिकेबिनामानवकाजीवनहीनिरर्थकहोजाताहै।वहींकथाकेबीच-बीचमेंभक्तिमयसंगीतगायकमाधवानंदठाकुरवउनकेसहयोगियोंनेप्रस्तुतकिया।भक्तिमयसंगीतमेंपंडितशंकरमिश्र,पंडितबलभद्रझा,सुनीलमिश्र,बलवीर¨सहबघ्घा,राजन,नंदन,राजारामआदिसहयोगकररहेथे।महायज्ञमेंदूर-दूरसेश्रद्धालुपहुंचेहुएहैं।उनकेसेवार्थस्थानीयस्वयंसेवकमौजूदहैं।श्रद्धालुकोकिसीप्रकारकीकठिनाईनहींहोइसकाख्यालरखाजारहाहै।