बच्चे-बुजुर्ग बरतें सावधानी, सर्दी से न हो परेशानी

बलरामपुर:सर्दीकासितमदिनोंदिनबढ़ताजारहाहै।बदलतेमौसममेंजरासीलापरवाहीपरेशानीकासबबबनसकतीहै।खासकरबुजुर्गोवबच्चोंकोसतर्करहनेकीजरूरतहै।संयुक्तजिलाअस्पतालमेंप्रतिदिनसर्दी,खांसी,जुकाम,वायरलबुखार,स्नोफीलियाऔरअस्थमाके50से60पीड़ितपहुंचरहेहैं।सबसेज्यादापरेशानीहृदयरोगियोंकीहै,जिन्हेंअक्सरडायजीपॉमभीअस्पतालोंमेंनहींमिलपाताहै।नवजातसेलेकर12वर्षतककेबच्चेतेजीसेनिमोनियाकीचपेटमेंआरहेहैं।बच्चोंमेंकोल्डडायरियाकेभीलक्षणदेखेजारहेहैं।नवजातमेंतापमानकीकमीकेकारणनेबुलाइजरतकलगानापड़रहाहै।

चर्मरोगोंकेभीबढ़ेमरीज:

-ठंडकेमौसममेंबच्चोंमेंचर्मरोगकीशिकायतभीबढ़रहीहै।संयुक्तजिलाचिकित्सालयकेबालरोगविशेषज्ञडॉ.एसकेवर्मानेबतायाकिसर्दीमेंबच्चेनहानेसेपरहेजकरतेहैं।इससेचर्मरोगहोनेकीआशंकाभीबढ़जातीहै।बच्चोंकोप्रतिदिनगुनगुनेपानीसेशरीरसाफकरनेकेबादस्वच्छकपड़ेपहनानाचाहिए।

सतर्करहेंबुजुर्ग:

-संयुक्तजिलाचिकित्सालयकेडॉ.महताबआलमकाकहनाहैकिसुबहकोहरेमेंटहलनेसेलकवाकाडररहताहै।ठंडलगनेसेब्लडप्रेशरबढ़जाताहै।इससेहार्टअटैककाभीखतराहै।सांसकेमरीजोंकीभीपरेशानीबढ़सकतीहैइसलिएबुजुर्गठंडसेबचनेकाप्रयासकरें।

निमोनियाकेलक्षण:

-सर्दी,खांसीवजुकामकाबनारहना।

-बच्चेकोसांसलेनेमेंदिक्कतहोना।

-दूधनपीना,पीतेहीउल्टीकरदेना।

-सांसतेजीसेचलना,बच्चेकाशरीरनीलापड़ना।

ऐसेकरेंठंडसेबचाव:

-बच्चोंएवंबुजुर्गोकोखुलीहवामेंनघूमनेदें।

-ठंडीऔरखट्टीचीजोंसेपरहेजकरें।

-गुनगुनेपानीकाइस्तेमालकरें।

-गर्मवताजेखाद्यपदार्थोकाप्रयोगकरें।

-दूधमेंहल्दीडालकरइसकासेवनकरें।

-नवजातकोशरीरसेचिपकाकररखेंजिससेउनकेशरीरकातापमाननियंत्रितरहे।