बांदापानी चाय बागान के श्रमिक चुनाव को ले दो खेमों में बंटे

-अधिग्रहणकेसातसालबीतजानेकेबावजूदनहींखुलाबागान,फिरभीश्रमिकोंकेएकगुटकोममताबनर्जीपरभरोसासंवादसूत्र,वीरपाड़ा:वर्ष2014मेंजमीनअधिग्रहणहोनेकेबावजूदअबतकबागाननहींखुलाहै।इसलियेबांदापानीचायबागानकेश्रमिकविधानसभाचुनावकोलेकरदोहिस्सोंमेंबंटगएहैं।श्रमिकोंकोएकगुटनेबतायाकिअगरतृणमूलकांग्रेसतीसरीबारअपनीसरकारबनातीहैतोबागानखोलनेकीव्यवस्थाकीजाएगी।तृणमूलसरकारहीराज्यऔरश्रमिककाविकासकरसकतीहै।वहींदूसरेगुटकेश्रमिकोंकाकहनाहैकिभाजपाकीसरकारराज्यकासंपूर्णविकासकरसकतीहै।

बांदापानीचायबागानकेसंगमसेल्फहेल्पग्रुपकेसंयोजकराजमूनीकिंडोनेकहाकिवेलोगममताबनर्जीकोतीसरीबारकेलिएमुख्यमंत्रीबनतेदेखनाचाहतेहैं।सरकारनेलड़कियोंकेलिएकन्याश्री,सबुजश्रीसमेतकईयोजनाएंसमेतराज्यमेंभरपूरविकासकार्यकियाहै।अगरममताबनर्जीतीसरीबारमुख्यमंत्रीबनकरआतीहैतोबांदापानीचायबागानजरूरखुलेगा।दूसरीओरबागानकेकर्मचारीबबलूमिंजनेकहाकि2014मेंहीबागानकासरकारीतौरपरअधिग्रहणकियागयाथा।उनलोगोंकोलगाथाकिअबबागानखुलजाएगा।लेकिनसातवर्षबीतजानेकेबावजूदबागाननहींखोलागयाहै।इसेलेकरजिलाधिकारी,श्रमविभाग,जिलापरिषदसमेतविभिन्नसरकारीविभागोंमेंकईबारआवेदनकियागया,परंतुबागाननहींखुला।बागानबंदहोनेकेकारणयुवकबाहरजानेकोमजबूरहोरहेहैं।कईलोगनदियोंमेंपत्थरतोड़नेऔरनिकालनेकाकामकरनेअपनागुजाराकररहेहैं।बबलूकीमानेतोयहांभाजपाकीसरकारआनेपरहीबागानखुलनेऔरविकासहोनेकीसंभावनाहै।उक्तबातोंनेराजनीतिकदलोंकीचिंताबढ़ादीहै।