बाजार में सार्वजनिक शौचालय नहीं रहने से परेशानी

संवादसहयोगी,कलेर,अरवल

एकओरजोरशोरसेखुलेमेंशौचसेमुक्तिकेलिएअभियानचलायाजारहाहै।वहींप्रखंडक्षेत्रकेमहेंदियाबाजारआनेजानेवालेलोगसार्वजनिकशौचालयनहींहोनेकादंशझेलरहेहैं।बाजारमेंतीनसौदुकानेंहैं।ग्रामीणइलाकोंसेहजारोंग्रामीणप्रतिदिनअपनीजरूरतकीसामानोंकीखरीददारीकरनेयहांआतेहैं।इसबीचयदिउनलोगोंकोशौचालयजानेकीआवश्यकतामहसूसहोतीहैतोपरेशानीबढ़जातीहै।कुछलोगतोपेट्रोलपंपकेशौचालयकाउपयोगकरतेहैं।हालांकिअधिकांशग्रामीणजिन्हेंबाजारमेंशौचकीआवश्यकतामहसूसहोतीहैवेलोगखुलेमेंशौचकोमजबूरहैं।बाजारकेपूरबदिशामेंबहनेवालानाहरमेंहीवेलोगशौचजानेकोबाध्यहैं।ऐसेमेंखुलेमेंशौचसेमुक्तिकाअभियानयहांदमतोड़तादिखरहाहै।बाजारवासीसंतोषकुमार,¨पटूकुमार,मुन्नाकुमारआदिलोगोंनेबतायाकिशौचालयनहींरहनेसेकाफीपरेशानीहोरहीहै।लोगोंनेप्रशासनसेइसदिशामेंअविलंबपहलकरतेहुएबाजारमेंसार्वजनिकशौचालयकानिर्माणकरानेकीमांगकीहै।