बाबुल बन कन्यादान करते हैं ट्रस्टी, महिलाओं को पैरों पर भी खड़ा कर रहे

कमलकोहली,अमृतसर

महानगरमेंएकऐसाधार्मिकअस्थानहैजोसमाजमेंआपसीभाईचाराबनाएरखनेकेलिएप्रेरणादेरहाहै।इसधार्मिकस्थलमेंहरवर्षसर्वधर्मसंतसम्मेलनकाआयोजनकियाजाताहै,जहांपरहरधर्मकेसंतसमाजशामिलहोकरसमाजकोएकसूत्रमेंपिरोतेहैं।यहधार्मिकस्थलश्रीआरतीशिवदुर्गामंदिरकेनामसेविख्यातहै,जोकरतारनगरछेहरटामेंस्थितहै।यहसंतसम्मेलनमंदिरकेप्रमुखपरमसंतआरतीदेवाकेसान्निध्यमेंवर्ष1988सेकरवाएजारहेहैं।

इससम्मेलनकोकरवानेकाउद्देश्ययहींहैकिहरभक्तकोहरधर्मकेबारेमेंज्ञानमिले।परमसंतआरतीदेवाकामाननाहैकिहरधर्महमेंएकसूत्रमेंपिरोताहै,इसलिएइससर्वधर्मसंतसम्मेलनकीशुरुआतकीगई।संतसम्मेलनमेंसनातनधर्म,जैन,बौद्ध,क्रिश्चियन,मुस्लिम,अमृतधारी,नामधारी,निरंकारी,नीलधारीवअन्यमठोंकेविद्वानशामिलहोतेहैं।वर्ष1982सेअबतकट्रस्टकरीब1200सेअधिकपरिवारोंकीबेटियोंकीशादीकरवाचुकाहै।इसमेंट्रस्टीबाबुलबनकरकन्यादानकरतेहैं।यहशादियांहरवर्षसावनमाहमेंसक्रांतिकोहोतीहैं।पूराखर्चट्रस्टउठाताहैतथाउनकोघरेलूसामानभीदियाजाताहैं।

परमसंतआरतीदेवाकाकहनाहैंकिधार्मिकप्रवृत्तिकेसाथजुड़करहीहमारेभीतरसमाजकीसेवाकरनेकाज्ञानप्राप्तहोताहैं।हमेंहमेशाधार्मिकप्रवृत्तिकेसाथजुड़करसमाजकीसेवाकरनीचाहिए।जहांसेवाहोतीहैवहांप्रभुकाआशीर्वादप्राप्तहोताहैं।जरूरतमंदपरिवारोंकीलड़कियोंकीशादीकरवानाभीप्रभुकाआशीर्वादहै।यहसबभक्तोंकेआशीर्वादसेहीसंभवहोताहैं।इसकेअलावाट्रस्टनेवर्ष1999मेंश्रीरामतीर्थआश्रमकेपासपंडितनानकचंदमाता-पितावृद्धआश्रमकीस्थापनाकीथी।यहांपरट्रस्टद्वाराबेसहाराबुजुर्गोकोसहारादियाजाताहै।ट्रस्टद्वारावर्ष2000मेंबनाएगएसिलाईकेंद्रमेंअबतकहजारोंलड़कियोंकोपरीक्षणलेकरअपनेपैरोंपरखड़ाकियाजाचुकाहै।गोवंशकीसेवाऔरलोगोंकीआंखोंकेआपरेशनभीकरवारहे

ट्रस्टनेमाताकौशल्यादेवीहेल्थकेयरवडायग्नोस्टिकसेंटरभीबनायाहुआहैं,जहांपरजरूरतमंदपरिवारोंकेउपचारतथाटेस्टकिएजातेहैं।इसकेअलावाएकगोशालाभीट्रस्टनेबनाईहुईहैं,जहांबेसहारागोधनकोरखाजाताहै।हरमहीनेट्रस्टदोलोगोंकीआंखोंकेआपरेशनकरवायाओमप्रकाशआइअस्पतालवजयकमलआइअस्पतालसेनिश्शुल्ककरवायाहै।