अटल जी ने भारत को आगे बढ़ाया, देश उनके योगदान को कभी नहीं भूलेगा : मोदी

नईदिल्ली,एजेंसियां।पूर्वप्रधानमंत्रीअटलबिहारीवाजपेयीकीदूसरीपुण्यतिथिपरप्रधानमंत्रीनरेंद्रमोदीनेउन्हेंयादकरतेहुएश्रद्धा-सुमनअर्पितकिए।मोदीनेपूर्वपीएमकोयादकरतेहुएट्विटरपरएक'मोंटाज'यानीवाजपेयीजीकेराजनीतिकसफरकीयादगारतस्वीरोंऔरउनकीअनमोलकविताओंकेसंग्रहकावीडियोसाझाकियाहै।उन्होंनेइसट्वीटमेंलिखाहैकिअटलजीकोउनकीपुण्यतिथिपरश्रद्धांजलि।

पीएममोदीद्वाराट्विटरपरसाझाकिएगएमोंटाजकीशुरुआतअटलीजीकीहीआवाजमेंउनकीप्रेरणादायीकविता'गीतवहीगाताहूं'सेहोतीहै।उसकेबादवीडियोमेंप्रधानमंत्रीमोदीकीआवाजहै।इसमेंवहकहरहेहैं,'भारतअटलजीकेकार्योऔरयोगदानकाहमेशाऋणीरहेगा।अटलजीभारतीयजनतापार्टीकेपहलेऐसानेताहैंजोप्रधानमंत्रीबने।अटलजीनेएककार्यकर्ता,एकनेता,एकमंत्रीऔरप्रधानमंत्रीकेपदपररहतेहुएदेशकोआगेबढ़ानेकेलिएकामकिया।'

करीबदोमिनटकेइसवीडियोमेंमोदीपूर्वप्रधानमंत्रीकेराजनीतिकसफरकेबारेमेंविस्तारसेबतारहेहैं।वहकहरहेहैं,'अटलजीकेनेतृत्वमेंपरमाणुपरीक्षणसेदेशकासिरऊंचाहुआ।भविष्यमेंजबकुछविशेषज्ञउनकेभाषणोंकाविश्लेषणकरेंगेतोउनकीचुप्पीउनकीआवाजसेकहींअधिकप्रभावशालीसाबितहोगी।'वीडियोकेआखिरमेंयुवामोदीअटलजीसेआशीर्वादलेतेनजरआरहेहैं।

मध्यप्रदेशकेग्वालियरमें25दिसंबर1924कोपैदाहुएअटलबिहारीवाजपेयीदेशकेतीनबारप्रधानमंत्रीरहचुकेथे।पहलीबारवह1996मेंपीएमबनेलेकिनउनकीसरकारचंददिनहीरही।उसकेबाद1998से1999तकपीएमरहे।फिर1999से2004तकउन्होंनेप्रधानमंत्रीकेरूपमेंपांचसालकाकार्यकालपूराकियाथा।16अगस्त,2018कोउनकानिधनहुआथा।