अमेरिकी अंतरिक्ष क्षमताओं के चुनौती दे रहे हैं चीन और रूस: पेंटागन

(ललितकेझा)वॉशिंगटन,12फरवरी(भाषा)अमेरिकाकाकहनाहैकिचीनऔररूसनेमजबूतएवंसक्षमअंतरिक्षसेवाएंविकसितकीहैंऔरवेअमेरिकीअंतरिक्षक्षमताओंकोचुनौतीतथाखतरापैदाकररहेहैं।पेंटागननेरक्षाखुफियाएजेंसीकीरिपोर्टमेंकहाकिचीनऔररूसीसैन्यसिद्धांतइसओरइशाराकरतेहैंकिवेअंतरिक्षकोआधुनिकआयुधकेरूपमेंऔर‘काउंटरस्पेस’क्षमताओं(अंतरिक्षप्रणालियोंकोबाधित,नष्टकरनेसकनेकीक्षमता)कोअमेरिकीएवंउसकेसहयागियोंकीसैन्यताकतकोकमकरनेकेमाध्यमकेरूपमेंदेखतेहैं।‘अंतरिक्षमेंसुरक्षाकोचुनौतियां’रिपोर्टमेंकहागयाहैकिदोनोंदेशोंनेअंतरिक्षआधारितखुफियाएवंनिगरानीसेवाओंसमेतमजबूतएवंसक्षमअंतरिक्षसेवाएंविकसितकीहैं।चीनऔररूसअंतरिक्षप्रक्षेपणयानोंऔरउपग्रहनेविगेशनसमेतमौजूदाप्रणालियोंमेंसुधारकररहेहैं।इसमेंकहागयाहै,‘‘येक्षमताएंउन्हेंअमेरिकीएवंउसकेसहयोगीबलोंपरनजररखने,उनकापतालगानेऔरउन्हेंनिशानाबनानेमेंसक्षमबनानेमेंमददकररहीहैं।इनकीमददसेउनकीसेनाओंकीक्षमतामेंइजाफाहुआहै।’’40पन्नोंकीइसरिपोर्टमेंकुछजगहोंपरभारतकाभीजिक्रहै।पेंटागननेभारतकोउननौदेशोंऔरएकअंतरराष्ट्रीयसंगठनमेंशामिलकियाहैजोस्वतंत्ररूपसेअंतरिक्षयानप्रक्षेपितकरसकतेहैं।इनमेंचीन,भारत,ईरान,इजराइल,जापान,रूस,उत्तरकोरिया,दक्षिणकोरिया,अमेरिकाऔरयूरोपीयअंतरिक्षएजेंसीशामिलहैं।रिपोर्टमेंकहागयाहैकियूरोपीयसंघ,रूसऔरअमेरिकीउपग्रहनेविगेशनप्रणालियांवैश्विककवरेजमुहैयाकरातीहैंजबकिजापानएवंभारतक्षेत्रीयप्रणालियांसंचालितकरतेहैं।चीनक्षेत्रीयएवंविश्वव्यापीउपग्रहनेविगेशनप्रणालीसंचालितकरताहै।