अहमद पटेल की जीत से ज्‍यादा खुश न हो कांग्रेस, कम होती सियासी जमीन पर करे विचार

गुजरातमेंहालहीमेंसंपन्नहुएराज्यसभाचुनावमेंजैसेतैसेकांग्रेसअध्यक्षसोनियागांधीकेराजनीतिकसलाहाकारअहमदपटेलबाजीमारनेमेंकामयाबरहे,लेकिनइसजीतपरकांग्रेसकोप्रफुल्लितहोनेकेबजायनएसिरेसेआत्ममंथनकरनेकीआवश्यकताहैकिआखिरक्याऔरकौनसेकारणहैंजिससेकांग्रेसकीहालातदिनप्रतिदिनखराबहोतीजारहीहै?दरअसलप्रधानमंत्रीनरेंद्रमोदीकीबढ़तीविश्वव्यापीलोकप्रियताऔरभाजपाअध्यक्षअमितशाहकीराजनीतिकसूझबूझनेकांग्रेसकेभौगोलिक-राजनीतिकदायरेकोसिमटकररखदियाहै।

विगततीनवर्षोमेंकांग्रेसनेकईराज्योंमेंसत्तागंवादीहैऔरअबवहदेशकेशीर्षसंवैधानिकपदोंसेभीबेदलखहोगईहै।प्रधानमंत्री,लोकसभाअध्यक्ष,राष्ट्रपतिऔरउपराष्ट्रपतिसभीमहत्वपूर्णपदोंपरभाजपाकाबिजहोगईहै।दरअसलइसकेलिएकांग्रेसकीनकारात्मकराजनीतिजिम्मेदारहै।वहइतनासबकुछगंवानेकेबादभीमाननेकोतैयारनहींकिदेशबदलरहाहैऔरबदलावकेसंवाहकप्रधानमंत्रीनरेंद्रमोदीहैं।वहअभीभीकथितसांप्रदायिकताऔरतुष्टीकरणकेभोथरेहथियारकेबूतेसत्तापरकाबिजहोनेकासपनादेखरहीहै।इससेनसिर्फउसकाजनाधारखिसकरहाहै,बल्किराजनीतिकसमझऔरअंतर्दृष्टिरखनेवालेकईबड़ेनेताकांग्रेसकासाथछोड़रहेहैं।

सचकहेंतो2014केआमचुनावमेंकरारीशिकस्तखानेकेबादसेलगातारकांग्रेसकीहालतपतलीहोतीजारहीहै।पार्टीमेंजानफूंकनेकेलिए2015मेंउपाध्यक्षराहुलगांधीकोआगेकियागया,लेकिनवहजितनाअधिकसक्रियहोरहेहैंपार्टीउतनीहीसिमटतीजारहीहै।गौरकरेंतो2012मेंउत्तरप्रदेशसेजोहारकासिलसिलाशुरूहुआवहगुजरात,मध्यप्रदेश,छत्तीसगढ़,राजस्थान,दिल्ली,हरियाणा,जम्मू-कश्मीर,महाराष्ट्र,गोवा,आंध्रप्रदेश,तेलंगाना,उत्तराखंडएवंउत्तरप्रदेशगंवानेकेबादभीबदस्तूरजारीहै।आजकीतारीखमेंदेखेंतोकांग्रेसदोबड़ेराज्योंहिमाचलप्रदेश,कर्नाटकऔरउत्तर-पूर्वकेकुछराज्योंतकसीमितरहगईहै।यहांभीकबभगवालहरजाएकहानहींजासकता।

कांग्रेसकीखराबहालतकेलिएराहुलऔरसोनियादोनोंहीजिम्‍मेदार,जानेंकैसे

कर्नाटकऔरहिमाचलप्रदेशकेमुख्यमंत्रियोंपरभ्रष्टाचारकेगंभीरआरोपहैंऔरवहांनसिर्फसत्ताविरोधीलहर,बल्किकांग्रेसपार्टीमेंगुटबाजीचरमपरहै।आनेवालेदिनोंमेंयहांकेभीकुछबड़ेनेताकांग्रेसकोअलविदाकहसकतेहैं।गौरकरेंतोकांग्रेसनेतृत्वकेअविवेकपूर्णफैसलोंसेहीउसकेबड़ेनेतालगातारपार्टीकोअलविदाकहरहेहैं।हालहीमेंगुजरातकेपूर्वमुख्यमंत्रीवजाने-मानेनेताशंकरसिंहवाघेलानेभीकांग्रेसछोड़दी।1यादहोगालोकसभाचुनावमेंकरारीहारकेबादएकअखबारकोदिएसाक्षात्कारमेंकांग्रेसनेतादिग्विजयसिंहनेकहाथाकिएक63सालकेनेता(नरेंद्रमोदी)नेयुवाओंकोआकर्षितकरलिया,लेकिनएक44सालकानेताऐसानहींकरसका।इसकामतलबयहनिकालागयाकिदिग्विजयसिंहकोभीअबराहुलगांधीकेनेतृत्वपरविश्वासनहींरहगयाजोअबसचसाबितहोरहाहै।ऐसानहींहैकिबदलतीपरिस्थितियोंनेकांग्रेसकोबदलनेकामौकानहींदिया।

नोटबंदीऔरबिहारमेंसत्तापरिवर्तनजैसेमसलेपरकांग्रेसचाहतीतोसरकारकेसाथखड़ाहोकरकालेधनऔरभ्रष्टाचारकेविरुद्धखुदकोसाबितकरसकतीथी,लेकिनउसनेयहमौकाहाथसेनिकलजानेदिया।उसनेनोटबंदीकेफैसलेकोराष्ट्रविरोधीकरारदिया।इससेलगाकिवहकहींनकहींखुदकोभ्रष्टाचारियोंकेसाथपारहीहै।इसीतरहवहबिहारमेंमहागठबंधनकेबीचउपजेदरारकेदौराननीतीशकुमारकेबजायलालूयादवकेपक्षमेंखड़ीहुई।मतलबसाफहैकिकांग्रेसनेठानलियाहैकिवहमिटजाएगी,परसुधरेगीनहीं।1आश्चर्ययहकिजिसराहुलगांधीकेकंधेपरकांग्रेसकोसत्तामेंलानेकीजिम्मेदारीहैवहभ्रष्टाचारियोंकेकंधेपरसवारहोकरसत्तातकपहुंचनाचाहतेहैं!वहदेशकेगंभीरमसलोंपरविमर्शकेबजायगुजरातयात्रमेंखुदपरहुईपत्थरबाजीपरवितंडाखड़ाकररहेहैं।कांग्रेसकोसमझनाहोगाकिउसकेउपाध्यक्षराष्ट्रनिर्माणकेफैसलोंकाविरोधऔरभ्रष्टाचारियोंकाबचावकरजनताकीसहानुभूतिअर्जितनहींकरसकते।

देशअच्छीतरहदेखरहाहैकिकांग्रेसकेकईबड़ेनेताओंपरभ्रष्टाचारकेगंभीरआरोपहैंऔरवेजांचकेघेरेमेंहैं।इनमेंहरीशरावत,वीरभद्रसिंह,अशोकचव्हाणऔरभूपिंदरसिंहहुड्डाशीर्षपरहैं।येकांग्रेसकेवेक्षत्रपहैंजिनकीबदौलतकांग्रेससत्तापानेकाख्वाबबुनरहीहै।अभीगतसप्ताहपहलेप्रवर्तननिदेशालयनेपूर्ववित्तमंत्रीपीचिदंबरमकेबेटेकार्तिचिदंबरमकेखिलाफमनीलांडिंगकाकेसदर्जकियाहै।गौरकरेंतोभारतमेंकांग्रेसकीसिकुड़तीजमीनकेलिएदोमहत्वपूर्णकारणजिम्मेदारहैं।एकउसकीराजनीतिकनकारात्मकताऔरदूसराउसकेशासनकालमेंहुएभ्रष्टाचार।विगततीनवर्षोसेदेशकांग्रेसकीनकारात्मकभूमिकाकोअच्छीतरहदेखरहाहै।जिसतरहवहसंसदऔरसड़कपरइसकाप्रदर्शनकररहीहैवहदेशकोभानहींरहाहै।देशमेंयहधारणाबनतीजारहीहैकिकांग्रेसऔरउसकेसमर्थक-सहयोगीदलमोदीसरकारकोकामकरनेदेनानहींचाहतेहैं।

उत्‍तरकोरियाकुछऐसेकरेगागुआमपरमिसाइलहमला,प्‍लानकियाजारी

दूसरीओरउसकेकार्यकालमेंहुएभ्रष्टाचारकोलेकरभीजनतामेंगुस्साकमहोनेकानामनहींलेरहा।कांग्रेसकेशासनकालमेंदेशमेंहुएभ्रष्टाचारकेकुछप्रमुखमामलोंपरएकनजरडालेंतोआजादीकेतुरंतबादही1948मेंसेनाकेलिए155जीपेंऔरराइफलेंखरीदीगईंजिसमेंकरोड़ोंरुपयेकीदलालीखाईगईथी।यहीनहींजोजीपेंखरीदीगईंवहपुरानीथींऔरद्वितीयविश्वयुद्धमेंप्रयुक्तकीजाचुकीथीं।नब्बेकेदशकमेंबोफोर्सघोटालाहुआऔर68करोड़रुपयेकेइसघोटालेमेंक्वात्रोची,विनचड्ढा,हिंदुजाबंधुऔरतत्कालीनप्रधानमंत्रीराजीवगांधीकानामसामनेआयाथा।संप्रगसरकारकेशासनकालमेंटूजीस्पेक्ट्रम,कॉमनवेल्थगेम्स,आदर्शहाउसिंगऔरकोयलाजैसेघोटालेहुए।ताज्जुबकीबातहैकिकांग्रेसअभीभीइससेसबकलेनेकोतैयारनहींहै।दरअसलउसीकानतीजाहैकिआजदेशकोभीकांग्रेसपरभरोसानहींरहगयाहैऔरइसकेकारणउसकीसियासीजमीनलगातारसिकुड़तीजारहीहै।

(लेखिकास्वतंत्रटिप्पणीकारहैं)

गुआमपरउत्‍तरकोरियाकीधमकीकेबादजापानभीउसेजवाबदेनेकोतैयार