अब तो गड्ढों में चलने की आदत पड़ गई है

जेएनएन,बिजनौर।सड़कोंकीमरम्मतकेलिएबारिशकेथमनेकाइंतजारथा,लेकिनबारिशरुकीतोसड़कोंकीमरम्मतकोभूलबैठे।आजभीनगरक्षेत्रऔरइससेबाहरभारीयातायातसेजुड़ेमार्गपरकाफीगहरेगड्ढेहोनेकेबावजूदएनएचविभागद्वारामार्गोकीमरम्मतकीओरध्याननहींहै।

नजीबाबादसेहोकरगुजरनेवालेमेरठ-पौड़ीहाईवेकादोवर्षपहलेजीर्णोद्धारहुआथा।अभीसेहीहाईवेकईजगहइतनाखराबहोचुकाहैकिराहगीरोंकोवहांसेगुजरनेमेंदुर्घटनाकाभयसतातारहताहै।धर्मकांटाचौराहा,सेंटमेरीजअस्पतालकेसामने,कोल्डस्टोरेजकेसामने,मंडीसमितिकेनिकट,नहरपुल,गांवलुकादड़ीमोड़केनिकट,चीनीमिलकेसामनेसमेतकईजगहोंपरगड्ढेहादसेकोदावतदेरहेहैं।इसीतरहमुरादाबाद-हरिद्वारहाईवेकेहालातभीकईजगहखराबहैं।दोनोंराष्ट्रीयराजमार्गोकेजुड़ावपरडबलफाटकफ्लाईओवरकेऊपरभीसड़ककाफीखराबहोनेसेगड्ढेबनचुकेहैं।-बोलेनागरिक

-कोटद्वाररेलवेब्रांचलाइनकेनजदीकसघनआबादीक्षेत्रमेंरहनेवालेलोगकाफीत्रस्तहैं।घरसेनिकलनाकिसीजंगपरजानेजैसालगनेलगाहै।अबतोइनहालातमेंरहनेकीआदतसीपड़नेलगीहै।

-अनिलचौहान,स्कूलप्रबंधकक्षेत्रमेंकईजगहसड़कोंकेहालातऐसेहैंकिकेवलएक्सपर्टलोगहीचलसकतेहैं।बुजुर्गों,महिलाओंऔरबच्चोंकोसड़कपरनिकलनेमेंहरकदमपरखतरानजरआरहाहै।

-सत्यपालसिंह,सेवानिवृत्तशिक्षकएकबारसड़कबननेकेबादउसकीगुणवत्ताऔरउसकेखराबहोनेकेकारणोंपरध्यानदेनाचाहिए।छोटी-छोटीचीजोंकोनजरअंदाजकरनेसेसमस्याबड़ीहोजातीहै।

-राजीवगुप्ता,कारोबारीयहकहनाकिसड़कक्षतिग्रस्तहोनेकेकारणकोईहादसाहुआ,तोअधिकारीकीजवाबदेहीहोगी,उचितनहींहै।हालातनहींसुधारनेपरजवाबदेहीभीहोनीचाहिए।

-पंकजविश्नोई,अधिवक्ता

एनएचविभागऔरलोकनिर्माणविभागकेअधिकारियोंकोपत्रभेजकरजल्दसेजल्दसड़ककीहालतमेंसुधारकरनेकेनिर्देशदिएगएहैं।

-परमानंदझा,एसडीएमनजीबाबाद