अब सतर्कता और सही जीवनशैली के प्रति बरतें गंभीरता, इनको है ज्यादा खतरा

रूमासिन्हा।कोविड-19केसंक्रमणसेसमूचाविश्वपरेशानहै।शोधकर्तावैक्सीनखोजनेमेंलगेहैं।तबतकइसकेबारेमेंजोनिष्कर्षसामनेआए,उनमेंशारीरिकदूरी,मास्ककाप्रयोगऔरमजबूतइम्युनिटीबहुतकारगरहैं।अनलॉक-1केदौरमेंअबहमसबकीजिम्मेदारीऔरबढ़गईहैकिसावधानियोंकोगंभीरतासेअपनाएं। जानेंक्‍याकहतेहैवेल्लूरकेइम्यूनोलॉजिस्टवप्रोफेसरक्रिश्चियनमेडिकलकॉलेजकेडॉ.देवाशीषडांडा।

डालनीहोगीमास्ककीआदत:इसबातकोपूरीदुनियाकेचिकित्साविशेषज्ञस्वीकाररहेहैंकिकोरोनासंक्रमणसेकाफीहदतकबचनेकाउपायमास्कका इस्तेमालहै।जोलोगमास्कलगातेहैं,उनमेंसंक्रमणकाखतरा80फीसदतककमरहताहै।यहचिंताजनकहैकिकोरोनासंक्रमणकेलगातारबढ़तेमामलोंकेबादभीलोगमास्ककीअनिवार्यताकोमात्रऔपचारिकतासमझरहेहैं।बढ़तेसंक्रमणकेबादभीज्यादातरलोगबगैरमास्ककेसार्वजनिकस्थानोंमेंदिखजातेहैं।कुछलोगतोमास्ककोरस्मअदायगीकीतरहगलेमेंलटकाएभीदिखजातेहैं।

वक्तकीजरूरतहैवर्कफ्रॉमहोम:बीतेदिनोंज्यादातरकार्यघरसेहीकिएजारहेथे।ऐसेमेंवर्कफ्रॉमहोमकीपद्धतिकोफिलहालबढ़ावादियाजानाचाहिए। एसेंशियलसर्विसेजकोछोड़करजरूरीहोतोकार्यस्थलोंमेंरोटेशनमें25फीसदकर्मचारियोंकीशिफ्टवारड्यूटीलगानीचाहिए।इससेजहांवर्कप्लेसपरलोडकम होगा,वहींसड़कोंवसार्वजनिकपरिवहनआदिमेंभीभीड़कमहोगी।

वक्तहैसंभलनेका:हमारेपासअभीभीसंभलनेकासमयहै।इनबातोंकोअगरगंभीरतासेअमलमेंलाएंऔर10हफ्तेअधिकसेअधिकघरोंमेंसुरक्षितरहेंतोकोरोनासंक्रमणकीचेनकोतोड़ाजासकताहै।वियतनाम,सिंगापुर,साउथकोरिया,चीननेकोरोनासंक्रमणकेप्रसारपरइसीतरहकाबूपायाहै।

खतरेमेंअन्नदाता:गांवलौटकरआएप्रवासीश्रमिकसंक्रमणकीवजहबनसकतेहैं।इसेदेखतेहुएग्रामीणक्षेत्रोंमेंविशेषध्यानदेनेकीजरूरतहै।यदिउनको जागरूकनहींकियागयातोअन्नदाताकेसंक्रमितहोनेकाखतराहोगा,जोअर्थव्यवस्थाकेलिएभारीपड़सकताहै।

इनकोहैज्यादाखतरा:भारतीयउपमहाद्वीपजिसमेंभारत,पाकिस्तान,बांग्लादेशऔरश्रीलंकाहैं,यहांमेटाबॉलिकसिंड्रोमकीजेनेटिकसमस्याहै।40वर्षसेअधिकआयुवाली40फीसदआबादीसेंट्रलओबेसिटीयानीपेट-कमरमेंफैटबढ़ने,हाइपरटेंशनवडायबिटीजकेसाथजीरहीहैं।यहीनहीं,40वर्षसेकमआयु वाली20फीसदआबादीभीमेटाबॉलिकसिंड्रोमसेग्रस्तहै।इससिंड्रोमसेग्रसितलोगोंमेंएंजियोटेंसिनकंवर्टिंगएंजाइम(एसीई)पायाजाताहै,जिसकेरिसेप्टरसे कोरोनावायरसबहुतजल्दबाइंडकरलेताहैऔरशरीरमेंप्रवेशकरजाताहै।जाहिरहैकिइनलोगोंकोसतर्करहनेकीज्यादाआवश्यकताहै।