आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस सिस्टम दो से तीन सेकेंड में बताएगा, कोरोना है या नहीं

जागरणसंवाददाता,जींद:शोधसागरसंस्थाननेकोरोनाजांचकेलिएआर्टिफिशियलइंटेलिजेंससिस्टम(मॉडल)तैयारकियाहै।इसमेंव्यक्तितापमान,हार्टबीट,उसकीसांसकीगतिवआवाजजांचकरकेदोसेतीनसेकेंडमेंहीबतादेगाकिइसव्यक्तिकोकोरोनाहैयानहीं।

शोधसागरसंस्थानकेसंचालकडा.दीवानशेरनेआर्टिफिशियलइंटेलिजेंससिस्टमकोआस्ट्रेलियासेपेटेंटकरवायाहै।डा.दीवानशेरकादावाहैकिआर्टिफिशियलइंटेलिजेंससिस्टमसेकोरोनाटेस्टपरखर्चभीनाममात्रकाहैऔररिपोर्टभीकुछसेकेंडमेंहीमिलजाएगी।शोधकेदौरानउन्होंने100लोगोंपरइससिस्टमकेतहतजांचकीगईऔरउसकेबादआरटीपीसीआरटेस्टकरवायागया।इसमेंउनके90सेज्यादालोगोंकीरिपोर्टकासहीमिलानहुआहै।यहपूरीतरहसेडाटाबेससिस्टमहैऔर25हजारसेज्यादालोगोंकीइससेजांचकेबादरिपोर्टशतप्रतिशतसहीहोजाएगी।पत्रकारवार्तामेंडा.दीवानशेरनेकहाकिमईमहीनेमेंउन्होंनेकोरोनाकीजांचकेलिएमशीनपरशोधशुरूकियाथा।चारमहीनेकीमेहनतकेबादआर्टिफिशियलइंटेलिजेंससिस्टम(मॉडल)तैयारहै।यहविश्वमेंपहलीबारहै,जबइतनीजल्दकोरोनाकापतालगसकताहै।शुरुआतमेंनागरिकअस्पतालकेडिप्टीएमएसडा.राजेशभोलाऔर10-12अन्यसहयोगियोंकेसाथकोरोनाजांचकेलिएमॉडलबनानेकीदिशामेंकामशुरूकिया।मॉडलबनानेमेंमेडिकलऔरटेक्निकलफील्डकाविशेषसहयोगरहा।टीममेंउसकेसाथडा.आयुषगोयल,आइआइटीएमग्रुपमुरथलकेकैंपसडायरेक्टरप्रविद्रबांगरशामिलरहे।

मशीनसेजल्दआएंगेनतीजे,डरभीहोगादूर

नागरिकअस्पतालकेडिप्टीएमएसडा.राजेशभोलानेकहाकिआर्टिफिशियलइंटेलिजेंससिस्टमसेजांचहोतीहैतोइसकासीधालाभआमलोगोंकोहोगा।उन्हेंतुरंतपतालगजाएगाकिउन्हेंकोरोनाहैयानहीं।इसमशीनकेआनेकेबादअधिकमैनपावरकीजरूरतभीनहींहोगी।इससमयकोरोनाजांचकरवानेकोलेकरलोगोंमेंभयहैकिकोरोनाजांचकेलिएसैंपलनाकसेलियाजाएगाऔरइतनीबड़ीस्टिकउनकीनाकमेंडालीजाएगी।यदिइसमशीनसेजांचशुरूहोतीहैतोलोगोंकाभयदूरहोजाएगाऔरइसकेनतीजेभीजल्दसामनेआएंगे।