आइये जानें, चाकलेट के कारोबार को स्वरोजगार के रूप में किस तरह आगे बढ़ाया जा सकता है...

नईदिल्ली,धीरेन्द्रपाठक।इग्‍नू,दिल्लीमेंप्राध्यापकपूजाअरोड़ाहोममेडचाकलेटकेबिजनेसमेंपिछलेपांचवषोंसेहैं।उन्‍होंनेशुरूमेंचाकलेटबनानेऔरबेचनेकायहबिजनेसशौकियातौरपरशुरूकियाथा।लेकिनदेखतेहीदेखतेघरसेशुरूहुआउनकायहबिजनेसआजदिल्‍ली-एनसीआरतकफैलचुकाहैऔरवहइससेहरसालअच्‍छी-खासीकमाईभीकररहीहैं।कोरोनाकालसेपहलेलोगअपनेबच्‍चोंकेलिएयाअपनेरिश्तेदारों-मित्रोंकोगिफ्टदेनेकेलिएउनकेघरआकरअपनीपसंदकाचाकलेटलेजायाकरतेथे।लेकिनसंक्रमणसेबचनेकेलिएअबलोगफोनसेयाआनलाइनआर्डरकेजरियेअपनेघरयहचाकलेटमंगातेहैं।

पूजाकेचाकलेटकीखासियतऐसीहैकिलोगएकबारइनकेचाकलेटकास्‍वादचखलेनेकेबादइसेभूलनहींपातेऔरफिरबाजारसेमिठाइयांयाचाकलेटमंगानेकेबजायइनकेहीड्राईफूटफ्लेवर,मिल्‍कफ्लेवर,क्रंचीयाखुशबूदारचाकलेटखानापसंदकरतेहैं।वैसे,होममेडचाकलेटयानीघरमेंबनेचाकलेटकीअपनीहीखूबियांहोतीहैं।

इसतरहकेचाकलेटमेंसामग्रीकीपूरीशुद्धताहोतीहै।जैसाफ्लेवरचाहें,वहऐडकरासकतेहैं।अपनेमनमुताबिकउसेडिजाइनयाकस्‍टमाइजकरासकतेहैं।खासकरबच्‍चेऐसेचाकलेटबहुतपसंदकरतेहैं,क्‍योंकिस्‍वादकेसाथ-साथयेएबीसीडीजैसेअल्‍फाबेटकेआकारमेंहोतेहैंयाफिरइनपरकोईइमेजछपीहोतीहै,जोउन्‍हेंकाफीआकर्षितकरतीहै,जबकिबाजारोंमेंबिकनेवालेचाकलेटकीगुणवत्ताऔरउसकीहाइजीनकोलेकरमनमेंसंदेहरहताहै।खासतौरसेकोरोनासंकटकेबादसाफसफाईपरज्‍यादाध्‍यानदियेजानेसेअबलोगहोममेडचाकलेटखानाहीज्‍यादापसंदकररहेहैं।यहीवजहहैकिबड़ेशहरोंसेलेकरछोटेशहरोंऔरकस्‍बोंमेंभीदेसीतरीकेसेचाकलेटबनानेऔरउसेबेचनेकाबिजनेसतेजीसेफलफूलरहाहै।

हरसीजनमेंरहतीहैडिमांड:चाकलेटकीडिमांडआजकलहरसीजनमेंरहतीहै।लोगशादियोंयापारिवारिककार्यक्रमोंजैसेहरमौकेपरइसेपसंदकरतेहैं।आपअपनेहीघर-परिवारमेंदेखलीजिए,किसेचाकलेटखानापसंदनहीं?बच्चोंसेलेकरहरउम्रके;लोगोंकोयहखूबपसंदहै।लोगसुबह-शामखानेकेबादमीठेकीजगहपरइसेहीखानापसंदकररहेहैं।अबतोलोगकेकऔरमिठाइयोंमेंभीचाकलेटकाफ्लेवरपसंदकररहेहैंऔरबाजारोंमेंइनफ्लेवरवालेआइटमोंकीभारीडिमांडभीदेखीजारहीहै।एकसर्वेकेअनुसार,हर3मेंसे1(लगभग35प्रतिशत)भारतीयोंकायहविश्‍वासहैकिचाकलेटउन्हेंएनर्जीप्रदानकरतेहैं।वहींकरीब43प्रतिशतभारतीयइसकालंचयारातकेखानेकेसाथतथाकरीब53प्रतिशतभूखलगनेपरचाकलेटकोस्‍नैक्‍सकेतौरपरउपयोगकरतेहैं।इतनाहीनहीं,आजकलदीवालीजैसेत्‍योहारोंपरयाबर्थडे/सालगिरहकेमौकोंपरभीबड़ीसंख्‍यामेंलोगअपनेदोस्तोंऔररिश्तेदारोंकोचाकलेटहीउपहारमेंदेतेहैं।इसीलिएभारतमेंऔरदेशोंकीतुलनामेंचाकलेटकीखपततेजीसेबढ़रहीहै।

ऐसेकरेंयहबिजनेस:चाकलेटकाबिजनेसअगरआपछोटेस्‍तरपरशुरूकरनाचाहतेहैं,तोइसकेलिएज्‍यादापूंजीयामैनपावरकीजरूरतनहींपड़तीहै।चाकलेटबनानेकायहकामआपअपनेघरसेभीशुरूकरसकतेहैं।जबआपकेपासज्‍यादाआर्डरआनेलगेंऔरघरमेंयहकामकरनासंभवनहो,तबबाजारमेंकोईशाप/पार्लरखोलनेयाफैक्‍ट्रीशुरूकरनेकीसोचसकतेहैं।फिलहालशुरुआतमें25-30हजाररुपयेकीपूंजीमेंभीयहकामशुरूकरसकतेहैं।इसकेलिएबसआपकोएकइंडक्‍शनचूल्‍हा/माइक्रोवेब,कुछमोल्‍डर(सांचा)औरएकफ्रीजचाहिए।इसकेअलावा,अगरज्‍यादामात्रामेंइसेबनाकरआपकोस्‍टाकमेंरखनाहै,तोएसीरूपभीचाहिए,ताकिकमरेकातापमानठंडाबनारहेऔरयहपिघलेनहीं।साथहीरॉमैटीरियलकेरूपमेंचाकलेटकेसीड,ड्राईफ्रूट(बादाम,काजू,चिरौंजी,पिस्‍ताइत्‍यादि),मिल्‍कपाउडर,फ्रैगरेंस(खुसबूलानेवालीचीजें)औरकुछदूसरेफ्लेवरलानेकेलिएजरूरीआइटमकीआवश्‍यकताहोगी।येचीजेंआपमार्केटमेंऐसीप्रमुखदुकानोंसेयाफिरआनलाइनभीमंगासकतेहैं।इसकेअलावा,बनेहुएचाकलेटकीपैकिंगऔरइसकीडिलीवरीआदिकेलिएचाहेंतोएकहेल्‍परभीरखसकतेहैं।वैसे,छोटेस्‍तरपरयहकारोबारशुरूकरनेकेलिएकिसीलाइसेंसकीआवश्‍यकतानहींहोतीहै।लेकिनअगरबड़ेस्‍तरपरकरनेकीसोचरहेहैं,तोफिरफूडसेफ्टीऐंडस्‍टैंडर्ड्सअथारिटीआफइंडिया(एफएसएसएआइ)सेलाइसेंसलेनाहोगा।

सीखकरबढ़ेंआगे:चाकलेटबनानेकाकामअगरआपबिजनेसकेतौरपरकरनाचाहतेहैं,तोअच्‍छायहीहोगाकिआपइसकीप्रोफेशनलट्रेनिंगलेनेकेबादयहकामशुरूकरें।एकहफ्तेसे15दिनकीयहट्रेनिंगहोतीहै।सीएसडीओजैसेबहुतसीसंस्‍थाएंइसतरहकीव्‍यावसायिकट्रेनिंगलोगोंकोउपलब्‍धकरारहीहैं, जिसमेंचाकलेटबनानेकीविधि,कूकिंगटेम्‍पेरेचर,डिजाइनिंग,मार्केटिंगआदिकीजानकारीदीजातीहै।इसतरहकीट्रेनिंगकीफीसभीआमतौरपरपांचसेसातरुपयेतकहोतीहै।इसकेअलावा,आनलाइनकेमाध्‍यमसेयूट्यूबसेयाकिसीपोर्टलसेभीयहआपसीखसकतेहैं।वैसे,इसेकहींसेप्रैक्टिकलसीखनाज्‍यादाअच्‍छामानाजाताहै।बादमेंयूट्यूबआदिकेजरियेफ्लेवर,डिजाइनिंगआदिकोएक्‍सप्‍लोरकरसकतेहैं।

(पूजाअरोड़ा,प्रोप्राइटर,'चोकोविला'सेबातचीतपरआधारित)