468 ग्राम पंचायतों के खातों में ही पड़े रह गए चार करोड़

रायबरेली:अफसरअबतकयहीकहतेआएहैंकित्रिस्तरीयपंचायतचुनावकाविकासपरकोईअसरनहींपड़ा।हकीकतइससेइतरहै।अधिसूचनाजारीहोनेकेकारणनएकार्यवैसेभीनहींहोनेथे।पुरानीपरियोजनाओंकाकामभीपूरीतरहसेठपरहा।इसकीबानगीस्वच्छभारतमिशनहै।

त्रिस्तरीयपंचायतचुनावकीअधिसूचनाजारीहोनेकेपहलेफरवरीमेंजिलामुख्यालयसे4.15करोड़काबजट468ग्रामपंचायतोंकोभेजागयाथा।येबजटशौचालयकेउन6922लाभार्थियोंकोदियाजानाथा,जिनकाचयनस्वच्छभारतमिशनफेज-टूमेंहुआथा।उसीसमययहधनराशिइनलाभार्थियोंकेखातोंमेंभेजदीजातीतोवेअबतकशौचालयोंकानिर्माणशुरूकराचुकेहोते।पहलेजबकभीइसयोजनाकाकामपिछड़ताथातोपूराठीकराग्रामप्रधानोंऔरसचिवोंकेसिरफोड़दियाजाताथा।इसवक्तगांवोंकीजिम्मेदारीप्रशासकोंकेपासहै,फिरभीयोजनापरब्रेकलगगया।विभागीयसूत्रबतातेहैंकिइनमेंसेएकपैसाभीकिसीलाभार्थीकेखातेमेंनहींगया।

भरपूरसमयहोनेकेबादभीलापरवाही

समयसेपहलीकिस्तनमिलनेकेकारणलाभार्थियोंमेंनाराजगीहै।लोगोंकाकहनाहैकिचुनावअधिसूचनाजारीहोनेकाअसरसिर्फनएकार्योंपरपड़ताहै।यहयोजनातोपुरानीहै।बजटभीचुनावकीघोषणासेपहलेमिलाथा।प्रशासकोंकेपासपर्याप्तसमयथा।इसकेबादभीसरकारीखातेमेंबजटपड़ारहगया।

ऐसेनहींदेपाएंगेजानकारीलाभार्थियोंकेखातेमेंधनराशिनभेजेजानेकेबारेमेंडीपीआरओराजेंद्रप्रसादसेपूछातोउनकाजवाबथाबजटनहींगयायेकैसेकहसकतेहैं।कितनीधनराशिभेजीगई?इससवालकेजवाबपरबोलेकिइसकीजानकारीनहींदेपाएंगे।