26/11 के नायक पर लिखी बेटी ने किताब: आइपीएस अधिकारी के अलावा भी बहुत कुछ थे हेमंत करकरे

मुंबई,प्रेट्र। 26/11केमुंबईहमलेकी11वींबरसीकीपूर्वसंध्यापरउसकेनायकपूर्वआइपीएसअधिकारीहेमंतकरकरेकेविराटव्यक्तित्वकोउनपरलिखीएककिताबकेजरियेयादकियागया।शहीदकीबेटीजुईकरकरेनवारेने'हेमंतकरकरे:अडॉटर्समेम्वायर'नामककिताबमेंलिखाहैकिउनकेपितासिर्फएकआदर्शआइपीएसअधिकारीहीनहींथे,बल्किसामाजिककार्यकर्ता,पारिवारिकव्यक्ति,कलाकारऔरबेहतरीनइंसानभीथे।

हेमंतकरकरेएकआदर्शपुलिसअधिकारीथे

यहांसोमवारकोआयोजितकिताबकेविमोचनसमारोहमेंआइटीइंजीनियरनवारेनेकहा,'उन्होंनेअपनेपूरेजीवनमेंकईभूमिकाएंअदाकीं।वहएकआदर्शपुलिसअधिकारीथे।उन्होंनेवैश्विकस्तरपरअपनेदेशकाप्रतिनिधित्वकिया।वहसामाजिककार्यकर्ताऔरकलाकारभीथे।'नवारेनेकहाकियहकिताबएकसामान्यलड़केकेअसामान्यबननेकीप्रेरककहानीहै।

26नवंबर2008कोमुंबईमेंआतंकीहमलेमें166लोगोंकीमौतहुईथी

उल्लेखनीयहैकि26नवंबर2008कोआतंकियोंनेमुंबईकेताजहोटलवअन्यजगहोंपरहमलाकरदियाथा।तबहेमंतकरकरेमुंबईआतंकवादनिरोधकदस्ते(एटीएस)केप्रमुखथे।वहबुलेटप्रूफजैकेटपहनकरखुदआतंकियोंसेलोहालेनेनिकलपड़ेथेऔरउनसेमुकाबलाकरतेहुएशहीदहोगएथे।इसहमलेमेंविदेशीनागरिकोंसमेत166लोगमारेगएथेऔर300सेज्यादाघायलहुएथे।

26/11काहरक्षणयादहै:लेफ्टिनेंटकर्नल

26नवंबर2008कोदेशकीआर्थिकराजधानीमुंबईपरहुएआतंकीहमलेसेपूरादेशसिहरउठाथा।आजउसहमलेको11वर्षपूरेहोगएहैं।लगभग60घंटोंतकसुरक्षाबलोंऔरआतंकियोंकेबीचहुईइसमुठभेड़मेंसैकड़ोंजानेंगईं।आतंकियोंनेछत्रपतिशिवाजीमहाराजटर्मिनस,लियोपोल्डकैफे,ताजऔरओबेरॉयट्राइडेंटहोटल,कामाअस्पतालऔरनरीमनहाउसकोनिशानाबनायाथा।मुंबईपुलिसनेदिलेरीसेइनआतंकवादियोंकासामनाकिया।अगलेदिनसुबहएनएसजीकमांडोनेइसमिशनकीकमानसंभाललीथी।

नरीमनहाउसमेंएनएसजीटीमकानेतृत्वकियाथा

नरीमनहाउसमेंएनएसजीटीमकानेतृत्वकरनेवालेरिटायर्डले.कर्नलसंदीपसेनकाकहनाहैकिइसमिशनकाहरक्षणउन्हेंयादहै।यहपहलीबारथा,जबवेशहरकेबीचोंबीचलड़ाईलड़रहेथेऔरपूरीदुनियाइसेलाइवदेखरहीथी।वह26/11हमलेपरबनरहीवेबसीरीज'दसीज:छब्बीसग्यारह'सेबतौरकन्सल्टेंटजुड़ेहैं।यहशोलेखकसंदीपउन्नीथनकीकिताबपरआधारितहै। ले.कर्नलनेकहा,'सेटपररीटेकहोतेहैं,लेकिनहमारेकाममेंरीटेकनहींहोतेहैं।'

आतंकियोंकासफायाकरनाहमाराकामहै

उन्होंनेकहाकिआदेशमिलतेहीहमनरीमनहाउसमेंतीनबजेकेआसपासपहुंचेथे।रातमेंहीसमीपकीबिल्डिंगखालीकरालीऔरआतंकियोंकोमारगिराया।'उन्होंनेकहाकिवहबचपनसेहीसेनामेंजानाचाहतेथे।सेनासेएनएसजीमेंशामिलहुए।कोईनहींचाहताकिदेशपरकोईआपदाआए,लेकिनदेशवासियोंकोबचानाऔरआतंकियोंकासफायाकरनाहमाराकामहै।हमदुश्मनसेसीमापरनहींलड़तेहैं।देशकेभीतरजोआतंकवादीहैं,उनसेलड़तेहैं।

इसलिए'होटलमुंबई'मेंदेवपटेलबनेसिख

26/11परबनीफिल्म'होटलमुंबई'इसीहफ्ते29नवंबरकोरिलीजहोगी।इसफिल्ममें'स्लमडॉगमिलेनियर'केअभिनेतादेवपटेलकेसाथअनुपमखेरमुख्यभूमिकामेंहैं।फिल्ममेंअनुपमखेरशेफहेमंतओबरायकीभूमिकामेंहैं।वहींदेवसिखवेटरअर्जुनकाकिरदारनिभारहेहैं।उनकायहकिरदारहोटलकेकुछकर्मचारियोंकेअनुभवोंकेआधारपरगढ़ागयाहै।हमलेकेसमयहोटलकेस्टाफनेअपनीजानकीपरवाहनकरतेहुएमेहमानोंकीजानबचाईथी।फिल्मसेजुड़ेसूत्रोंकेमुताबिक,देवकेकहनेपरहीनिर्देशकएंथनीमरासउनकेकिरदारकोसिखबनानेपरतैयारहुए।ऐसाकरदेवसिखसमुदायकेप्रतिपूर्वाग्रहकोखत्मकरनेकीकोशिशकररहेहैं।अमेरिकापरहुएआतंकीहमले(9/11)केबादलोगोंमेंसिखोंकेप्रतिगलतफहमीपैदाहोगईथी।अपनेकिरदारकेमाध्यमसेउन्होंनेउसेहीदूरकरनेकाप्रयासकियाहै।

मुझेअबनहींरोनाहै:आशीषचौधरी

मुंबईआंतकीहमलेमेंकईलोगोंनेअपनोंकोखोया।11सालबादभीउनकीयादेंअपनोंकेसाथहैं।अभिनेताआशीषचौधरीकीबहनमोनिकाऔरजीजाअजीतओबेरॉयट्राइडेंटहोटलमेंहुएहमलेकेदौरानवहींथे।दोनोंकीमौतकेबादआशीषबहनकेदोनोंबच्चोंकालालन-पालनकररहेहैं।वर्ष2008केउसहमलेनेआशीषकीजिंदगीपूरीतरहसेबदलकररखदीथी।हमलेकेबादचारसालतकफिल्मोंमेंकामनहींकियाथा।आशीषकहतेहैं,'पहलेमैंइसबारेमेंबातनहींकरताथा,लेकिनअबसोचताहूंकिएकमैंहीनहींहूंजोइसदुखसेगुजराहै।कईलोगोंनेअपनोंकोखोयाहै।मेरेसाथजोभीहुआवहकिसीकेसाथनहो।मैंआजअपनेपरिवारकोदेखकरबहुतखुशहोताहूं।मैंनेएकघरबनायाहै,जहांहमसबएकसाथहैं।हमसभीएकसाथसातबेडरूमवालेघरमेंरहतेहैं।'