25 साल से परिचय ढूंढ रहे एमसीएल से विस्थापित सात सौ परिवार

जागरणसंवाददाता,राउरकेला:सुंदरगढ़जिलेकेहेमगिरमेंमहानदीकोलफील्डलिमिटेड(एमसीएल)कीओरसेजमीनअधिग्रहणकेबाद1996सेखननशुरूकियागयाहै।बसुंधरापूर्वएवंपश्चिमखानकेभीतरचारगांवटिकिलीपाड़ा,सरडेगा,बांकीबहालवबलिगाकेसातसौसेअधिकपरिवारोंकोअपनीजमीन,जीविका,वर्षोंपुरानीसंस्कृतिखोनापड़ा।विस्थापितोंकोजमीनकापट्टावअन्यदस्तावेजनहींमिलेहैं।इसकारण25सालसेवेअपनापरिचयढूंढरहेहैं।उन्हेंसरकारीयोजनासेभीवंचितहोनापड़रहाहै।

एमसीएलबसुंधरापूर्वएवंपश्चिमखानकेबाद2007सेकुडलाखदानकाकामचलरहाहै।सियारमालक्षेत्रमें950मिलियनटनकोयलाकाभंडारहै।बसुंधराखदानक्षेत्रमेंटिकलीपाड़ासे275परिवार,सरडेगासे129परिवार,बांकीबहालसे80परिवारतथाबलिगासे183परिवारविस्थापितहुएहैं।जमीनअधिग्रहणकेसमयविस्थापितोंसेजोवादेकिएगएथेवेपूरेनहींहोपाएहैं।इनलोगोंकोटिकलीपाड़ाक्षेत्रमेंबिनाकिसीदस्तावेजके10-10डिसमिलजमीनमिलीहैपरइसकाकोईदस्तावेजउनकेपासनहींहै।विभिन्नप्रमाणपत्रकेलिएसरकारीकार्यालयमेंजानेपरउन्हेंजमीनकापट्टामांगाजारहाहै।सरकारीयोजनाओंकालाभभीउन्हेंनहींमिलपारहाहै।यहांओडिशापुनर्वासकानून-2006केअनुसारकिसीपरिवारकोराज्यसरकारसेस्वीकृतिनहींदीगईहै।जिलाप्रशासनकीओरसेउनकेलिएकोईयोजनातथाकिसीप्रकारकापरामर्शनहींदियागयाहै।विस्थापितोंकोलिएपुनर्वासएवंपारिपा‌िर्श्वकविकाससलाहकारकमेटी(आरपीडीएसी)कीबैठकभीनहींहुईहै।यहक्षेत्रआदिवासीअधिसूचितक्षेत्रमेंहोनेकेबावजूदग्रामसभामेंयोजनाकीस्वीकृतिनहींलीगईहै।ओडिशापुनर्वासकानून-2006एवंजमीनअधिग्रहणकानून-2013केअनुसारपुनर्वासनकरनेएवंफिरसेविस्थापितपरिवारोंको50फीसदमुआवजादेनेकेलिएभीपरिवारोंकीसूचीनहींबनायीगईहै।इनकीजमीनपर25सालसेखननहोरहाहैएवंकरोड़ोंकाराजस्वसरकारकोमिलरहाहैपरविस्थापितपरिवारोंकीसमस्यापरविचारनहींहोनेसेउनमेंकाफीरोषहै।