10 साल बाद भी जेडीए में 12500-निगमों में 614 पट्टे अटके हुए हैं, प्रकरण 6 माह से 3 साल पुराने, अब एक्ट से ही बाहर किए गए

लाेकसेवागारंटीअधिनियमलागूहाेनेके10वर्षबादभीसरकारीऑफिसाेंमेंलोगोंकीपरेशानियांकमनहींहोरहीहैं।जेडीएऔरनिगममेंकर्मचारियोंकीलापरवाहीकेचलतेआमलोगोंकेभूखंडोंकेपट्टेफंसेहुएहैंऔरजारीनहींहोपारहे।हैं।यहखुलासासहायकनिदेशकलाेकसेवाएंकलेक्ट्रेटजयपुरकीजांचमेंहुआहै।रिपोर्टकेअनुसार,जेडीएमें12500,ग्रेटरनिगममें518औरहेरिटेजमें96पट्टेअटकेहैं।

येप्रकरणछहमाहसेअधिकपुरानेहाेनेकेकारणलाेकसेवागारंटीसमयावधिकेबाहरहाेचुकेहैं।काेराेनामेंभीलाेगमंत्रियोंऔरअधिकारियोंकेपासचक्करलगारहेहैं।अधिनियम2011केतहतआवेदनकेअधिकतम45दिनमेंपट्टेजारीहाेनेचाहिए।पट्टेजारीनहींहाेनेपरआवेदनकर्ताकाेयहभीनहींबतायाजाताकिकिसदस्तावेजकीकमीकेकारणसेउनकीफाइलरुकीहुईहै।

गाैरतलबहैकि2011मेंतत्कालीनगहलोतसरकारनेसरकारीकार्योंकाेसमयपरपूराकरनेकेलिएलाेकसेवागारंटीअधिनियम2011पासकियाथा।अधिनियमकीउच्चअधिकारियोंकेद्वारामॉनिटरिंगकीकमीऔरशक्तिसेपालनानहींहाेती।लाेगाेंकाेछाेटे-छाेटेसरकारीकार्याेंकेलिएऑफिसोंकेचक्करलगानेकेसाथकर्मचारियोंकेआगेगिड़गिडानापड़ताहै।

कलेक्टरअंतरसिंहनेहराकाकहनाहैसहायकनिदेशकलाेकसेवाएंकीजेडीएवदाेनाेंनिगमकीरिपोर्टमिलीहै।इसमेंसमयावधिसेअधिकसमयकेपट्टोंवअन्यप्रकरणोंकेबड़ीसंख्यामेंमामलेलंबितहैं।इसबारेमेंनोटिसदेकरकारणपूछाजाएगा।लंबितप्रकरणोंकेनिस्तारणनहींहाेनेपरसंबंधितव्यक्तिकाेउसकेलंबितहाेनेकाकारणबतानाजरूरीहै।

जयपुरकेऑफिसोंकीहैंसबसेअधिकशिकायतें

लाेकसेवागारंटीअधिनियममें25विभागोंकी211सेवाएंहैं।सरकारीकार्यालयोंमेंकामनहींहाेनेकीशिकायतोंकागत10वर्षकाआंकड़ादेखेताेराजस्थानमेंविभिन्नविभागोंकी7कराेड़सेअधिकशिकायतेंदर्जहुईहै।इनमेंसबसेअधिकशिकायतेंराजधानीजयपुरकेदफ्तरोंकीहै।अधिनियममेंसमयपरकार्यनहींहाेनेकिएजानेपरअधिकारीपरजुर्मानेकाप्रावधानहै।बड़ासवालयहहैकिअधिनियमकेतहतभीकामनकरनेपरकार्रवाईक्योंनहींहोरही?