10.44 लाख युवाओं को नहीं लग पाए टीके

संतकबीरनगर:कोरोनाकीतीसरीलहरकेआनेकीआशंकाहै।देशकेकेरलसहितकुछप्रांतोंमेंइसनेदस्तकदेदीहै।मानाजारहाहैकिइसकीचपेटमेंज्यादाबच्चे,युवाआदिआएंगे।इनसबकेबीचइसजिलेमेंसिर्फ12.98फीसदयुवाओंकोटीकेलगपाएहैं।बच्चोंकेलिएटीकाअभीनहींआयाहै।इसकीवजहसेजनपदकेकईमाता-पिताबच्चोंकोलेकरभयभीतहैं।

आंकड़ोंपरगौरकरनेपरपाएंगेकिइसजनपदकीकुलआबादीकरीब20लाखहै।इसमेंयुवाओंकीआबादीलगभग60फीसदयानी12लाखहै।अबतकजनपदमेंसिर्फएकलाख55हजार786युवाओंकोहीटीकेलगपाएहैं।10लाख44हजार214युवाइससेवंचितहैं।हालांकियुवाकोरोनासेबचावकाटीकालगानेकेलिएउत्सुकहैं।येनिकटकेअस्पतालोंमेंआरहेहैं।बीच-बीचमेंअनुपलब्धताकीवजहसेअस्पतालोंमेंटीकेनहींलगरहेहैं।इससेइन्हेंबार-बारचक्करलगानापड़रहाहै।हालांकिस्वास्थ्यमहकमेकेअधिकारीपहलेशत-प्रतिशतलोगोंकोयहटीकालगानेकीकार्ययोजनाबनाचुकेहैं।अधिकाधिकटीकाप्राप्तकरने

केलिएयेशासनकेपासडिमांडभीकरतेरहेहैं।इसकेबादभीकईमाहसेबीच-बीचमेंटीकेनहींमिलरहेहैं।कभी-कभीजरूरतकीतुलनामेंकमटीकेमिलरहेहैं।इसकीवजहसेकभीतीनतोकभीसात-आठसरकारीअस्पतालोंमेंटीकेनहींलगपारहेहैं।प्रतिदिन50से60हजारलोगोंकोलगासकतेहैंटीका

अपरमुख्यचिकित्साधिकारीडा.मोहनझाकाकहनाहैकिस्वास्थ्यकर्मीप्रतिदिन50से60हजारलोगोंकोटीकालगासकतेहैं।यदिइतनीमात्रामेंरोजटीकामिलेतोबहुतजल्दअधिकाधिकलोगोंकोटीकालगादियाजाएगा।इसकेलिएशासनसेअधिकाधिकटीकाप्राप्तकरनेकीकोशिशकीजारहीहै।जरूरतकीतुलनामेंहरदिनटीकामिलनेपरगांवोंमेंभीशिविरलगाकरलोगोंकोटीकालगायाजाएगा।