0.4 प्रतिशत की दर से बढ़ा है साइबर अपराध, आनलाइन बैंकिग सबसे ज्यादा निशाने पर

जागरणसंवाददाता,अंबाला:

देशमेंआनलाइनठगीकेमामलेतेजीसेबढ़रहेहैं।साल2019कीअपेक्षा2020मेंयहआंकड़ा0.3प्रतिशतकीदरसेआगेबढ़ाहै।खासहैकिसाइबरअपराधियोंकेटारगेटपरसबसेज्यादाआनलाइनबैंकिगहै।यदिइनपररोकनलगपाईतोआनेवालेसालोंमेंयहआंकड़ाबेहदगंभीरस्तरतकपहुंचसकताहै।कुछइसीकाखुलासाभारतीएयरटेलकेसीईओगोपालविट्टलनेग्राहकोंकोसचेतकरतेहुएकियाहै।उल्लेखनीयहैकिनेशनलक्राइमरिकार्डब्यूरो(एनसीआरबी)नेआनलाइनफ्राडकोलेकरसाला2020काआंकड़ाजारीकियाहै।

एनसीआरबीकेआंकड़ोंपरनजरमारें,तोसाल2020मेंआनलाइनबैंकिगधोखाधड़ीके4047मामलेसामनेआएहैं,जहांपरग्राहकोंकोकरोड़ोंरुपयेकाचूनालगाहै।इसीतरहउपभोक्ताओंसेओटीपीपूछकरठगीकरनेके1093मामलेपाएगए।इसकेअलावाक्रेडिटयाडेबिटकार्डसेधोखाधड़ीके1194तथाएटीएमसेधोखाधड़ीके2160मामलेसामनेआएहैं।आंकड़ेबतारहेहैकिउत्तरप्रदेशमेंऐसेमामलोंकाआंकड़ासबसेज्यादाहै।उत्तरप्रदेशमें11097मामलेसामनेआए,जबकिकर्नाटकमें10741,महाराष्ट्रमें5496,तेलंगानामें5024औरअसममें3530मामलेसामनेआएहैं।कर्नाटकमेंऐसेमामलोंमें16.2प्रतिशतकीदरसेवृद्धिदर्जहुईहै।इसीतरहतेलंगानामें13.4प्रतिशत,असममें10.1प्रतिशत,उत्तरप्रदेशमें4.8प्रतिशतऔरमहाराष्ट्रमें4.4प्रतिशतकीदरसेऐसेअपराधबढ़ेहैं।दूसरीओरसाइबरअटैकसेभीलोगोंकालाखोंकरोड़रुपयेकानुकसानहुआहै।साल2020मेंसाइबरअटैककेकारण1.24लाखकरोड़रुपयेकानुकसानहुआहै।दूसरीओरकोविडकालकेदौरानऐसेमामलोंमेंपांचसौप्रतिशतकीवृद्धिदर्जकीगईहै।अंबालामेंभीआनलाइनफ्राटकेमामले

अंबालाकीबातकरें,तोयहभीऐसेअपराधोंसेअछूतानहींहै।अंबालामेंअक्टूबरमाहकेदौरानहीआनलाइनफ्राडके12मामलेसामनेआएहैं।इनमेंसेकुछमामलेजहांआनलाइनखरीदारीकेदौरानहुईठगीकेहैं,तोकुछमामलेबैंकिगसेजुड़ेहैं,जहांओटीपीसाझाकरकेठगीगईगईहै।अंबालाएसएसपीकीओरसेजारीकररखीएडवाइजरी

-शातिरकभीरिश्तेदार,मित्र,तोकभीबैंकअधिकारीबनकरखातेसेरकमनिकालरहेहैं

-बीमापालिसीकालाभरिवार्डपाइंटदिलानेवलाटरीलगनेकेबहाने

-बैंकमेंरजिस्टर्डमोबाइलनंबरपरओटीपीआएतोसाझानकरें

-डेबिटवक्रेडिटकार्डकीजानकारीजैसेकार्डनंबर,वैधतातिथिसीवीवीनंबरनबताएं

-नेटबैंकिगवसोशलमीडियाअकाउंट्सकापासवर्डसमय-समयपरबदलतेरहें

-पासवर्डमेंकभीभीअपनानाम,जन्म-तिथि,गाड़ीनंबर,मोबाइलनंबरकाप्रयोगनकरें

-पासवर्डसमय-समयपरबदलतेरहें।