प्रधनमंत्र श्रम महन धन यजन

भोआ (पंजाब), 11 मई (भाषा) पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने ‘टाइम’ मैग्जीन में प्रकाशित एक आलेख को लेकर शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना की और लोगों से ‘‘देश की एकता’’ के लिए कांग्रेस को वोट देने की अपील की। दरअसल, इस अमेरिकी पत्रिका ने अपनी कवर स्टोरी पर मोदी को ‘डिवाइडर इन चीफ’ कहा है। सिंह ने यहां एक चुनावी रैली में इस बात का जिक्र किया और कहा, ‘‘इससे यह प्रदर्शित होता है कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय मोदी के बारे में क्या सोचता है, जिन्होंने वैश्विक पटल पर भारत की प्रतिष्ठा को कमतर किया है।’’ यह आलेख भारतीय पत्रकार तवलीन सिंह और पाकिस्तान के दिवंगत नेता एवं कारोबारी सलमान तसीर के बेटे आतिश तसीर ने लिखा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि इंदिरा गांधी, राजीव गांधी और अटल बिहारी वाजपेयी जैसे नेताओं ने संयुक्त राष्ट्र जैसे वैश्विक मंचों पर राष्ट्र के लिए ख्याति अर्जित की थी। उन्होंने आरोप लगाया कि इस देश के धर्मनिरपेक्ष ताने - बाने को नष्ट करने की मोदी की शर्मनाक कोशिश इसके (देश के) अस्तित्व के लिए एक खतरा है। उन्होंने लोगों से भविष्य और भारत की एकता के लिए वोट देने की अपील की, जिसकी विविधता और धर्मनिरपेक्षता इसकी आंतरिक मजबूती है। सिंह ने कहा, ‘‘भारत को एक ऐसी सरकार की जरूरत है जो इसे एकजुट रख सके, ना कि मोदी जैसे नेताओं की जो देश की एकता को नष्ट करने पर आमादा हैं। ’’ उन्होंने कहा कि मोदी अपने भाषणों में सर्वकालिक निचले स्तर पर चले गए हैं। उन्होंने भोआ पहुंचने में हुई देर के लिए माफी मांगते हुए कहा कि उन्हें मोदी सरकार के तुच्छ निर्देशों पर पठानकोट में उतरने की इजाजत नहीं दी गई। उन्होंने कहा कि इन चुनावों में भाजपा की आसन्न हार को देखते हुए प्रधानमंत्री इस तरह के सस्ते हथकंडों का सहारा ले रहे हैं। सिंह ने मोदी को आड़े हाथ लेते हुए उन पर बालाकोट एयर स्ट्राइक का श्रेय लेने की कोशिश करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि यह सशस्त्र बलों की जीत है, ना कि प्रधानमंत्री की। गुरदासपुर निर्वाचन क्षेत्र में चीनी मिल की समस्याओं के शीघ्र हल का भरोसा दिलाते हुए मुख्यमंत्री ने गुरदासपुर सहकारी चीनी मिल की प्रतिदिन पेराई क्षमता 2000 टन से बढा कर 10000 टन करने की घोषणा की। उन्होंने यह भी कहा कि क्षेत्र में किसानों को गन्ना के बकाये का भुगतान करने के लिए 25 करोड़ रूपया जारी किया गया है। वहीं, बटाला में एक अन्य रैली को संबोधित करते हुए अमरिंदर ने पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल के उस कथित बयान की आलोचना की, जिसमें उन्होंने कहा था कि पंजाब के लोगों ने 2015 की बेअदबी की घटना को भुला दिया है।