latest govt job recruitment in kerala 2019

आगरा की डॉ. भीमराव अंबेडकर विश्वविद्यालय के नाम पर वर्ष 2004-05 में बड़ी संख्या में लोगों ने बीएड की फर्जी डिग्री प्राप्त कर ली थी। फर्जी डिग्री लेने वाले 241 मुन्ना भाईयों ने बेसिक शिक्षा विभाग की लचर व्यवस्था में सेंध लगाई। इन्होंने सूबे के विभिन्न जिलों में शिक्षक के पद पर नौकरी भी प्राप्त कर ली। शिकायत पर मामला हाईकोर्ट पहुंच गया। हाईकोर्ट के आदेश पर शासन ने जांच के लिए एसआईटी गठित की। एसआईटी ने जांच करके 241 मुन्ना भाईयों को तलाश किया। जिनमें से दो शिक्षिकाएं हापुड़ में निकलीं। जांच के बाद अपर मुख्य सचिव बेसिक शिक्षा ने 15 जनवरी 2019 को बीएसए को पत्र लिखकर ऐसे शिक्षकों के खिलाफ कार्रवाई के आदेश दिए थे। इसके लिए 30 जनवरी तक का समय दिया था। कई बार रिमाइंडर आए, लेकिन कार्रवाई नहीं की गई। जून माह के शुरूआत में मामला गर्माया तो सचिव ने 24 जून तक एडी बेसिक से कार्रवाई की रिपोर्ट मांगी। जिसके बाद हरकत में आए बीएसए ने 21 जून को दोनों शिक्षिकाओं की सेवा समाप्त कर दी।