झगड़ करते हैं

सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे ने शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को उनके चुनावी वादों की याद दिलाई और कहा कि भ्रष्टाचार के मुद्दे पर संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) और राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) सरकार में कोई अंतर नहीं है। हजारे ने मोदी को लिखे गए तीन पृष्ठ के एक पत्र में कहा कि भ्रष्टाचार को कम करने के लिए लोकपाल और लोकायुक्त लागू करने जरूरी हैं और किसानों को आत्महत्या से रोकने के लिए कृषि उत्पादों का वाजिब मूल्य दिया जाना चाहिए।