एप्पल मबइल रेंज

71.05 फीसद वन भूभाग वाले उत्तराखंड में वन एवं वन्यजीवों की सुरक्षा को लेकर अक्सर सवाल उठते आए हैं। संरक्षित, आरक्षित वन क्षेत्रों में शिकारी और तस्कर बेखौफ धमककर अपनी करतूतों को अंजाम दे देते हैं और महकमा लकीर पीटता रह जाता है। हालांकि, पेड़ों के अवैध कटान, वन्यजीवों के शिकार, कार्मिकों की मिलीभगत आदि से संबंधित मामलों में जांच के आदेश होते हैं, लेकिन कार्रवाई नहीं हो पाती। पिछले पांच वर्षों के दौरान ही शासन व वन मुख्यालय स्तर से ही करीब तीन दर्जन मामलों में जांच के आदेश हुए, लेकिन इनमें से केवल एक ही प्रकरण में कार्रवाई मुकाम तक पहुंची है।