recruitment consultant job in the uk

लखीमपुर : पिछले ग्यारह दिनों से बकाया भुगतान की मांग को लेकर गन्ना समिति में चल रहे धरने को शनिवार किसान नेता वीएम सिंह ने संबोधित किया। उन्होंने कहा कि देश की मोदी व प्रदेश की योगी सरकार ने किसानों के बकाया भुगतान किए जाने के लिए आश्वस्त किया था, लेकिन अभी तक किसानों को भुगतान नहीं मिल सका है। किसानों का आवाहन करते हुए उन्होंने कहा कि वर्तमान में लोहा गर्म है साथियों चोट कर दो। चूंकि विधानसभा चुनाव निकट है। सरकार को पिछले चुनाव में किया गया उसका वादा याद दिलाने के लिए 15 जुलाई को बड़ी संख्या में किसान आंदोलन का आगाज करते हुए विधानसभा लखनऊ व गन्ना आयुक्त का घेरा डालो डेरा डालो नारे के साथ ब्याज सहित भुगतान की मांग की जाएगी। किसानों के भुगतान मिलने से समाज की अर्थव्यवस्था पटरी पर आ सकेगी। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने बीस हजार करोड़ रुपये कोरोना में देने का वादा किया था। आखिर कहां गया वह रुपया? उन्होंने याद दिलाया कि दौरान चुनाव मोदी ने वादा किया था कि किसानों का भुगतान 15 दिन में किया जाएगा। यदि नहीं किया गया तो ब्याज सहित भुगतान दिलाया जाएगा। इसके बाद केंद्र व राज्य में बीजेपी की सरकार होने के बावजूद किसानों का भुगतान नहीं हो सका है। किसान समिति, बैंक से गन्ना फसल के लिए लोन लेते है। जिसके एक साल बाद गन्ना मिल को आपूर्ति करते हैं। इसके एक साल बाद तक किसानों को उनका भुगतान नहीं मिलता है। फिर मिल व समिति किसानों से दो साल का ब्याज सहित भुगतान लेते है। यदि किसान नहीं दे पाता है। तो उसकी आरसी काट दी जाती है। जबकि किसानों को ब्याज मिलना तो दूर असल दाम तक नहीं मिलता। बिजली बिल भुगतान न करने पर भी किसानों को प्रताड़ित कर ब्याज सहित वसूली की जाती है। इस मौके पर श्री कृष्ण वर्मा, प्रेम भार्गव, अंजनी दीक्षित, डीके राज, रामनिवास शुक्ला, श्रीकृष्ण यादव सहित अन्य किसान संगठनों के तमाम पदाधिकारी सहित सैकड़ों किसान मौजूद रहे।