रजस्थन के मुख्य न्ययधश

फेडरेशन आफ प्राइवेट स्कूल आफ पंजाब के प्रधान जगजीत सिंह धूरी ने कहा कि विद्यार्थियों के माता-पिता व स्कूल मैनेजमेंट का आपस में पक्का संबंध है। यह संबंध सरकार के फैसलों व अदालतों के फैसलों पर नहीं टिका हुआ, क्योंकि प्राईवेट स्कूलों का चुनाव माता-पिता ने बेहतर पढ़ाई व उच्च दर्जे की सुविधाएं के कारण किया है। फेडरेशन के सभी सदस्य स्कूल सरकार व माननीय हाईकोर्ट के निर्देशों की पालना करेंगे। साथ ही ऐसे माता-पिता जो एकमुश्त फीस भरने से असमर्थ होंगे, उन्हें बिना किसी लेट फीस या जुर्माने से फीस भरने की आज्ञा होगी। गौैर हो कि माननीय पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट ने पटीशन की सुनवाई करते स्कूल की सभी फीसों का 70 प्रतिशत भरने का फैसला सुनाया है। साथ ही दाखिला फीस छह महीनों में दो बराबर किश्तों में भरनी होगी। स्कूल मैनेजमेंट को निर्देश जारी हुए हैं कि वह अपने मुलाजिमों की 70 प्रतिशत वेतन जारी करेंगे। बाकी रहती 30 प्रतिशत फीसों व वेतन का फैसला अदालत द्वारा बाद में सुनाया जाएगा। अदालत ने इस बात का गंभीर नोटिस लिया कि पंजाब सरकार ने स्कूलों को फीसों लेने से रोककर वेतन पूरी देने के आदेश दिए हैं।