network alerts से गन

जिले के गांव दुग्गा में इस बार 120 एकड़ व लोंगोवाल में 25 एकड़ क्षेत्र में टमाटर की खेती की गई थी। टमाटर का रेट 6.40 पहले से तय हो गया था। किसान सुखिवंदर सिंह व करनैल सिंह ने बताया कि पहले-पहले फसल देखने में काफी अच्छी दिख रही थी। लेकिन बाद में फल पड़ने के बाद क्लाइट वायरस ने इस पर धावा बोल दिया। जिससे पौधे के पत्ते सिकुड़कर सूखने लगे। इसके अलावा चानणी रोग से 50 क्विंटल प्रति एकड़ पैदावार कम हुई है। जिससे उनका तीस हजार रुपये प्रति एकड़ का नुकसान हो गया है। उन्होंने बताया कि उनका टमाटर अमृतसर साहिब के पास निझर फूड प्राइवेट लिमिटेड अमृतसर व होशियारपुर कैमका प्राइवेट लिमिटेड के पास जाता है। परन्तु इस बार सबकुछ चौपट हो गया है। उन्होंने मांग की कि केंद्र सरकार ने कहा था कि लॉकडाउन में प्याज व टमाटर की ढुलाई का आधा किराया सरकार देगी। इसलिए मुख्यमंत्री पंजाब कैप्टन अमरिदर सिंह केंद्र सरकार से संपर्क कर पंजाब के टमाटर उत्पादकों को कुछ राहत दिलाएं। ताकि उनके हुए नुकसान की कुछ हद तक पूरती हो सके।