मूत्र मर्ग संक्रमण के उपचर

'जिन नेताओं को जिम्मेदारियां दी जा रहीं हैं, वे अधिक सक्षम हैं।' भाषा, कोलकातातृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के अखिल भारतीय महासचिव पद से हटाए जाने के एक दिन बाद मुकुल रॉय ने कहा कि विभिन्न पदों पर उनकी जगह लेने वाले नेता उनसे अधिक सक्षम हैं, लेकिन समय बताएगा कि यह फैसला सही था या नहीं। रविवार को रॉय ने कहा कि वह सांसद हैं और पार्टी के लिए काम करते रहेंगे। उत्तर 24-परगना जिले में कंचरापाड़ा स्थित अपने आवास पर संवाददाताओं से उन्होंने कहा कि यह पार्टी के लिए नई शुरुआत होगी। एक समय टीएमसी अध्यक्ष ममता बनर्जी के काफी करीबी रहे रॉय ने कहा कि पार्टी की अस्थाई समिति ने यह फैसला किया है और मुझे कोई शिकवा नहीं है। उन्होंने कहा कि मुझे इस मामले में कुछ नहीं कहना, लेकिन वक्त ही बताएगा कि यह फैसला सही था या गलत था। जब उनसे पूछा गया कि क्या वह टीएमसी में रहेंगे या नहीं, तो उन्होंने कहा कि यह पार्टी पर निर्भर करता है। जिन नेताओं को जिम्मेदारियां दी जा रहीं हैं, वे अधिक जिम्मेदार हैं। रॉय ने कहा कि मैं लोगों को छोड़कर भागा नहीं हूं। मैं जनता के साथ पूरी तरह जुड़ा हुआ हूं। मैं केवल जनता के साथ रहना चाहता हूं और उनके लिए काम करता रहूंगा। गौरतलब है कि टीएमसी ने शनिवार को दक्षिण कोलकाता से पार्टी के लोकसभा सदस्य सुब्रत बख्शी को रॉय की जगह महासचिव बनाया। इससे एक दिन पहले ही डेरेक ओ'ब्रायन को राज्यसभा में रॉय की जगह पार्टी का नेता बनाया गया था।मुकुल के लिए हमारा दरवाजा खुला है : कांग्रेसपीटीआई, कोलकाताकांग्रेस की पश्चिम बंगाल इकाई ने कहा है कि कांग्रेस के दरवाजे टीएमसी के किसी भी सदस्य या नेता के लिए हमेशा खुले थे और खुले हैं। टीएमसी लीडर मुकुल रॉय की पार्टी में छवि बिगड़ने और महासचिव पद से हटाए जाने के बाद इस तरह की अटकलें लगाई जा रही है कि वो पार्टी छोड़ सकते हैं। प्रदेश कांग्रेस कमिटी के अध्यक्ष अधीर चौधरी का कहना है कि अधिकतर टीएमसी लीडर कांग्रेस से ही निकले थे, अब अगर वो टीएमसी छोड़ते हैं तो उनके पास कांग्रेस जॉइन करने के शिवाय कोई बेहतर विकल्प ही नहीं है।